श्री हनुमान, / Shri Hanuman,

श्री हनुमान, हिंदू धर्म में एक प्रमुख देवता हैं। हनुमानजी को वायुपुत्र, पवनपुत्र, बजरंगबली, अंजनीपुत्र, अंजनीसुत, आदि नामों से भी जाना जाता है। वे भगवान श्री राम के भक्त, दास और सेवक थे और रामायण के महाकाव्य में उनका महत्वपूर्ण रोल रहा है।

हनुमानजी को वानर सेना के मुखिया भी माना जाता है, और उन्हें शक्ति, वीरता, विवेक, एकाग्रता और भक्ति का प्रतीक माना जाता है। उनकी पूजा भारत में विशेष आदर्शपूर्वक की जाती है, और उनके मंदिर और श्री हनुमान चालीसा के पाठ को लोग नियमित रूप से करते हैं।

भगवान हनुमान के भजन, चालीसा और कथाएं उनके भक्तों के बीच बहुत प्रसिद्ध हैं, और उन्हें समस्त भक्त उनके सामर्थ्य और आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करते हैं।
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------

श्री हनुमान को हिंदी में "श्री हनुमान" या "हनुमान जी" के रूप में जाना जाता है। हनुमान जी हिंदू धर्म के प्रमुख देवता में से एक हैं और उन्हें भगवान राम के भक्त और सेवक के रूप में पूजा जाता है। वे एक बड़े भक्तिभाव से प्रसिद्ध हैं और हिंदू धर्म में उनके भजन और कथाएं बड़े श्रद्धा भाव से सुनी जाती हैं।

हनुमान जी को मारुति नंदन, वायुपुत्र, पवनपुत्र भी कहा जाता है। उन्हें शक्ति, वीरता, त्याग, विश्वास और विवेक के प्रतीक के रूप में पूजा जाता है। हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, रामरक्षा स्तोत्र आदि उनके प्रसिद्ध पूजनीय ग्रंथ हैं जो उनके भक्तों द्वारा पढ़े जाते हैं।

हनुमान जी की पूजा और भजन से लोग भगवान राम के समीप आत्म-समर्पण और दृढ़ विश्वास की प्रेरणा लेते हैं। उनके भक्ति और कथाएं हिन्दू धर्म में एक अहम भाग हैं और वे भगवान राम के विजय और धर्म के प्रतीक के रूप में पूजे जाते हैं।
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
श्री हनुमान, हिंदू धर्म के एक प्रमुख देवता हैं। वे महाभारत काल में भगवान राम के भक्त थे और उनके सच्चे भक्त के रूप में प्रसिद्ध हुए। हनुमान जी को वीर, दूत, बजरंगबली, संकटमोचन, अंजनीपुत्र, पवनसुत आदि नामों से भी जाना जाता है।

उन्हें माना जाता है कि वे अनंत ब्रह्मचारी हैं, जिसका अर्थ है कि वे सदा स्वयंकोंतेय रहते हैं और अपने गुरु श्री राम की सेवा में लगे रहते हैं। वे शक्तिशाली, बुद्धिमान और पराक्रमी होने के साथ-साथ दयालु भी हैं, और अपने भक्तों के संकटों का निवारण करते हैं।

हनुमान जी की पूजा-अर्चना का विशेष महत्व हिन्दू धर्म में है, और विशेषकर उत्तर भारतीय रीति-रिवाजों में उन्हें बहुत प्रिय और प्रसिद्ध माना जाता है। उन्हें साल में एक बार रामनवमी के दिन भी विशेष भक्ति और उत्साह के साथ पूजा जाता है।
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
श्री हनुमान, हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक हैं। वे भगवान श्री राम के भक्त, सेवक और अवतार माने जाते हैं। हनुमानजी को वीर और बलि का प्रतीक माना जाता है और उन्हें भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करने वाले देवता माना जाता है।

हनुमानजी की कहानी वाल्मीकि रामायण और तुलसीदास के रामचरितमानस में विस्तार से मिलती है। उनके वीरता, बल, बुद्धिमत्ता और भक्ति के गुणों के कारण उन्हें भारतीय साहित्य और संस्कृति में विशेष महत्व प्राप्त है।

हनुमान चालीसा, भजन और आरती उनकी पूजा के लिए प्रसिद्ध हैं और भक्तों द्वारा नित्य पाठ की जाती हैं। रामनवमी, हनुमान जयंती और तुलसीदास जयंती जैसे त्योहारों पर भक्तों द्वारा हनुमानजी के प्रति विशेष श्रद्धा और भक्ति व्यक्त की जाती है।
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------

आज नहीं तो कल वो कृपा करेंगे, वो वीर हैं रघुबीर के, आकर सारा दुख, पल में हर लेंगे...❣️
 #ॐ_हं_हनुमंते_नमः 
 #जय_श्री_राम
संकट कटे मिटे सब पीरा, जो सुमिरे हनुमत बलबीरा।

Comments