चार युगों में श्री गणेश के चार अवतार

 चार युगों में श्री गणेश के चार अवतार

सनातन धर्म में चार युग सत्य, त्रेता, द्वापर और कलियुग हैं। गणेश पुराण के अनुसार, श्री गणेश के चार युगों में चार अलग अलग अवतार होंगे।

1. महोत्कट- सत्य युग में श्री गणेश का कश्यप के पुत्र महोत्कट के रूप में अवतार था। महोत्कट को लोकप्रिय रूप से विनायक के नाम से जाना जाता है। इस रूप में गणेश की दस भुजाएँ हैं और वे सिंह की सवारी करते हैं। वह दावंतक, नरांतक और धूम्राक्ष द्वारा किए गए अधर्म का विनाश करने के लिए अवतार लेते हैं।

2. मयूरेश्वर- त्रेता युग में गणेश मयूरेश्वर के रूप में अवतार लेते हैं। इस रूप में, गणेश की छह भुजाएँ हैं और वे मोर की सवारी करते हैं। इस अवतार में राक्षस सिंधु का विनाश हुआ था।

3. गजानन- द्वापर युग में गणेश ने गजानन के रूप में अवतार लिया। इस रूप में उनका लाल वर्ण, चार भुजाएँ थीं और वे एक चूहे की सवारी करते थे। गजानन ने इस रूप में दानव सिंदुर का अंत किया।

4. धूम्रकेतु- कलियुग (वर्तमान लौकिक युग) में, गणेश धूम्रकेतु के रूप में अवतार लेंगे। उन्हें सूर्पकर्ण के नाम से भी जाना जाएगा। 

उनके दो हाथ होंगे और वे नीले घोड़े पर सवार होंगे। इस अवतार का उद्देश्य पृथ्वी पर लोगों द्वारा किए गए अधर्म का अंत करना है।

जय गणेश

Comments