भगवान विष्णु के प्रिय पुष्प के बारे में जानेंऔर किस पुष्प से मिलता है कौन-सा फल /Know about the favorite flower of Lord Vishnu and which flower gives which fruit


भगवान विष्णु के प्रिय पुष्प के बारे में जानें

हिंदू धर्म में देवी-देवता की पूजा के समय उन्हें फूल अर्पित किए जाते हैं. कहते हैं कि भगवान को उनके प्रिय फूल चढ़ाने से वे जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं. मान्यता है कि भगवान को फूल अर्पित करते समय भी कुछ नियमों का ध्यान रखना चाहिए. आइए जानते हैं भगवान विष्णु को कौन सा फूल अर्पित करने से क्या फल मिलता है.

भगवान विष्णु के प्रिय पुष्प के नाम

भगवान विष्णु को कमल, कदम, चंपा, चमेली, केतकी, केवड़ा, वैजयंती, तुलसी के मंजरी और अशोक के फूल बेहद प्रिय हैं।

इन पुष्प को चढ़ाकर भगवान विष्णु को करें प्रसन्न ,  जानें किस पुष्प से मिलता है कौन-सा फल

चंपक पुष्प  से

श्रीहरि को उनके प्रिय पुष्प अर्पित करने से वह जल्द प्रसन्न होते हैं. चंपक पुष्प - चंपक का  पुष्प भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण को बेहद प्रिय है. मान्यता है गुरुवार को श्रीहरि की पूजा में चंपक के पुष्प  चढ़ाने से बैकुंठ की प्राप्ति होती है. 

अशोक के पुष्प से 

अशोक के पुष्प अशोक क पुष्प  से भगवान विष्णु की पूजा करने पर शोक से छुटकारा मिलता है

कदंब के पुष्प से

भगवान विष्णु को कदंब के पुष्प अर्पित करने से उनकी कमनाओं को पूरा करते हैं धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु को कदंब के फूल सबसे प्रिय है. मान्यता है कि श्री हरि को कदंब के पुष्प अर्पित करने से वे जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं. कदंब के पुष्प को लेकर ये भी मान्यता है कि भगवान का पूजन इन पुष्पों से करने पर व्यक्ति को मृत्यु के बाद यमराज के कष्टों का सामना नहीं करना पड़ता. साथ ही, विष्णु भगवान उनकी कमनाओं को पूरा करते हैं

 गुलाब के फूलों से

मान्यता है कि गुलाब के फूलों से विष्णु जी की पूजा करने पर श्री हरि के साथ-साथ माता लक्ष्मी की भी कृपा प्राप्त होती है. वहीं, सफेद और लाल कनेर के फूलों से पूजन करने पर भी भगवान शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं. इसके साथ ही, अगस्त्य पुष्प से नारायण का पूजन करना भी शुभ माना जाता है.

तुलसी पत्र अर्पित करने से

श्री हरि को रोजाना तुलसी पत्र अर्पित करने से दस हजार जन्मों के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं. साथ ही, इस बात का भी ध्यान रखें कि रविवार और एकादसी के दिन कभी तुलसी का पत्ता न तोड़ें. इसके अलावा, एकादशी के दिन शमी पत्र से पूजन करने पर यमराज के भयानक मार्ग को सुगमता से पार कर लेते हैं.

पीले और लाल कमल के पुष्पों से

मान्यता है कि पीले और लाल कमल के पुष्पों से भगवान विष्णु जी की पूजा करने से श्वेत दीप में स्थान मिलता है. वहीं, कहते हैं कि बकुल और अशोक के पुष्पों से पूजन करने पर शोक से रहित रहते हैं. चंपक पुष्प से विष्णुजी की पूजा करने वाले लोगों को जीवन-मृत्यु के चक्र से मुक्ति दिलाता है.
वहीं, स्वर्ण से बना केतकी पुष्प भगवान को चढ़ाने से करोड़ों जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं.विष्णु जी के इन प्रिय फूलों को चढ़ाकर आप भी भगवान श्री हरि नारायण को प्रसन्न कर सकते हैं





 


Comments