महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव का / Mahamrityunjaya Mantra of Lord Shiva

महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव का

महामृत्युंजय मंत्र शिव पूजा और ध्यान के समय उपयोग किया जाने वाला प्रमुख मंत्र है। यह मंत्र भगवान शिव को समर्पित है और उनकी कृपा और आशीर्वाद को प्राप्त करने का माध्यम माना जाता है।
महामृत्युंजय मंत्र का संस्कृत में निम्नलिखित रूप है:-

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

 मंत्र का अर्थ है:

"हम त्रिनेत्र वाले भगवान शिव को पूजते हैं, जो सुगंधित और पुष्टि के स्रोत हैं। हे ऊँट की तरह बांधे हुए यह मुझे मृत्यु संबंधी बंधन से मुक्त करें और मुझे अमृत से मुक्ति दें॥"
महामृत्युंजय मंत्र का जाप रोगों से सुरक्षा और उनके निवारण के लिए, स्वस्थता और उन्नति की कामना के लिए और शिव के कृपालु होने के लिए किया जाता है। यह मंत्र अत्यंत प्रभावी माना जाता है और शिव भक्तों द्वारा नियमित रूप से जाप किया जाता है।

महामृत्युंजय मंत्र के 15 महत्वपूर्ण तथ्य;-

नीचे मैं आपके साथ महामृत्युंजय मंत्र के 15 महत्वपूर्ण तथ्य साझा करता हूँ, जो भगवान शिव के संबंध में हैं:
1. महामृत्युंजय मंत्र का प्राचीनतम उल्लेख युगादि रवि पुराण में मिलता है, जो त्रेता युग में लिखा गया था।
2. मंत्र की महत्ता शिव पुराण, वायु पुराण, रुद्र यामल, उमा संहिता आदि पुराणों में वर्णित है।
3. इस मंत्र को "त्र्यम्बकं मंत्र" भी कहा जाता है, क्योंकि यह भगवान शिव को "त्र्यम्बकं" (तीन नेत्रों वाला) के रूप में समर्पित है।
4. मंत्र में उपयोग हुए शब्द "त्र्यम्बकं" शिव के योगीश्वर स्वरूप को संकेत करते हैं, जिसका अर्थ होता है "तीन नेत्रों वाला"।
5. यह मंत्र भगवान शिव की अपार कृपा को प्राप्त करने का माध्यम माना जाता है।
6. मंत्र का उच्चारण व्यक्ति को मनोशांति और शारीरिक स्वास्थ्य की प्राप्ति में सहायता करता है।
7. इस मंत्र का जाप करने से रोगों का निवारण हो सकता है और उनकी रोकथाम में सहायता मिलती है।
8. महामृत्युंजय मंत्र का नियमित जाप करने से मृत्यु के भय का नाश होता है और जीवन की दीर्घायु प्राप्ति हो सकती है।
9. इस मंत्र का जाप शिव पूजा, महाशिवरात्रि और सोमवार के दिन विशेष रूप से किया जाता है।
10. मंत्र का जाप 108 बार किया जाता है, क्योंकि अंक 108 शिव को समर्पित है और इसे पवित्र माना जाता है।
11. इस मंत्र का जाप विशेष रूप से ग्रहण काल में किया जाता है, क्योंकि इस समय मंत्र की शक्ति और प्रभाव अधिक माने जाते हैं।
12. महामृत्युंजय मंत्र का जाप मन को शांत करता है और ध्यान को स्थिर करने में सहायता प्रदान करता है।
13. यह मंत्र सुरक्षा के मंत्रों में गिना जाता है, क्योंकि इसका जाप करने से व्यक्ति को नाराजगी, विपत्ति और आपदाओं से सुरक्षा मिलती है।
14. मंत्र का जाप करने से शिवजी की कृपा प्राप्त होती है और अभिप्रेत आत्माओं की शांति होती है।
15. महामृत्युंजय मंत्र के नियमित जाप से व्यक्ति की आत्मिक उन्नति, सामर्थ्य और सफलता में सुधार होता है।

Comments