हनुमान जी के बारे में और 20 रोचक तथ्य के बारे में

हनुमान जी के बारे में और 20 रोचक तथ्य  के बारे में 

हनुमान जी, हिन्दू धर्म में एक प्रमुख देवता हैं। उन्हें वानर देवता, मारुति, बजरंगबली और महावीर हनुमान भी कहा जाता है। हनुमानजी को भगवान राम के भक्त और सेवक के रूप में जाना जाता हैं जिन्होंने रामायण काल में भगवान राम की सेवा की थी।
हनुमानजी के बारे में विशेषकर उनके बलिदान, शक्ति, वीरता और विश्वास के कारण वे विशेष रूप से पूजे जाते हैं। उनकी भक्ति को हनुमान चालीसा, हनुमान अष्टक, और रामायण में भी व्यक्त किया गया है।
हनुमानजी को वीर, बुद्धिमान, ब्रह्मचारी, और भक्ति भावना से परिपूर्ण माना जाता हैं। वे अधिवीर थे और अपनी भक्ति और प्रतिबद्धता के लिए प्रसिद्ध हुए। हनुमानजी के चित्र, मूर्ति और प्रतिमा भारतीय मंदिरों में व्यापक रूप से पाई जाती हैं और उन्हें सभी धार्मिक उत्सवों पर बहुत श्रद्धा और भक्ति से पूजा जाता हैं।
यह धार्मिक मान्यता है कि हनुमानजी भक्तों के दुःखों को दूर करते हैं, उनकी समस्याओं को हल करते हैं और सभी शुभकार्यों में सहायता प्रदान करते हैं। हनुमानजी की पूजा और भक्ति को हिन्दू धर्म में अधिक महत्व दिया जाता है और उनके नाम का जाप किया जाता है ताकि भक्तों को उनकी कृपा मिले और उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी हों।

हनुमान जी के बारे में 20 रोचक तथ्य

1. हनुमानजी का असली नाम "मारुति" था, जो वायुपुत्री देवी से जन्मे थे।
2. हनुमानजी को सूर्यपुत्र भी कहा जाता है, क्योंकि उनके पिता वायु देव सूर्य देवता के द्वारा जन्मे थे।
3. उनका अवतार त्रेता युग में भगवान राम के लिए हुआ था, जैसा कि वाल्मीकि रामायण में वर्णित है।
4. हनुमानजी को बजरंगबली कहा जाता है, क्योंकि उनकी ताकत और बल उन्हें अद्भुत बनाती हैं।
5. उन्हें केवलज्ञानी, अतुलितबलधारी, पवनसुत और संकटमोचन भी कहा जाता हैं।
6. हनुमानजी के चालीसा "हनुमान चालीसा" भजन के रूप में बहुत प्रसिद्ध है और उनके भक्त रोज़ाना इसे पढ़ते हैं।
7. उनके मंदिर और श्री मूर्तियां पूरे भारत में व्यापक रूप से पाई जाती हैं, और इसे विशेष भक्ति और श्रद्धा से पूजा जाता है।
8. भारतीय ज्योतिष में हनुमानजी को नवग्रहों में सनी पुत्र के रूप में भी जाना जाता हैं।
9. हनुमानजी का वानर सेना के प्रमुख थे और उनका समर्थन रामायण के युद्ध में भगवान राम के लिए महत्वपूर्ण था।
10. उनके वज्रायुध और शक्ति के कारण वे असुर रावण के लिए भयभीत कायर थे और राम भक्तों के लिए भक्तवत्सल और साहसी थे।
11. हनुमानजी की पूर्व जन्म कथा में बताया जाता है कि उन्होंने ब्रह्मा देव के आज्ञानुसार सूर्य को छुआ था, जिससे वायुपुत्री देवी के गर्भ में जन्म मिला।
12. हनुमानजी को चिन्हित करने के लिए एक तिलक (विभूति) जिसे भक्त विशेष रूप से लगाते हैं, जिसमें लाल और सियाह रंग का मिश्रण होता है।
13. हनुमानजी को तुलसी रामायण और सुंदरकांड के रचयिता माना जाता है, जो तुलसीदास द्वारा रचित हुआ था।
14. हनुमानजी का मंदिर नाम हनुमान धाम या हनुमान मंदिर होता है, और यह भारत और नेपाल के अलग-अलग भागों में उपलब्ध है।
15. हनुमानजी की उपासना से भक्तों को भय और अज्ञानता से मु
क्ति मिलती है, और उन्हें बुद्धिमान बनाते हैं।
16. हनुमानजी का वाहन लंका के धनुष धारक भगवान शंकर थे, जिनका वाहन नंदी नामक वृषभ (बैल) है।
17. हनुमानजी को मंगलवार दिन का देवता माना जाता है, और इस दिन उनके भक्त विशेष उपासना करते हैं।
18. हनुमानजी के भक्तों के बोलने पर उनकी कृपा बनी रहती है और उन्हें सभी संकटों से मुक्ति मिलती है।
19. हनुमानजी के चालीसा के वाचन से भय, भ्रम, भयभीति, और रोगों से छुटकारा मिलता है और भक्त को सफलता प्राप्त होती है।
20. हनुमानजी के प्रति श्रद्धा और भक्ति के द्वारा व्यक्ति मानसिक शांति, उत्साह और साहस की प्राप्ति करता है, और उन्हें धार्मिक उत्सवों में विशेष महत्व दिया जाता है।
हनुमान जी के रोचक तथ्य हैं। भगवान हनुमान को उनकी भक्ति और शक्ति के लिए अपने भक्तों द्वारा प्रसन्नता प्रदान की जाती है।

Comments