हनुमान तारक मंत्र के बारे में /About Hanuman Tarak Mantra

हनुमान तारक मंत्र के बारे में

हनुमान तारक मंत्र, जिसे हनुमान बीज मंत्र भी कहा जाता है, भक्तों द्वारा हनुमानजी की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए जाप किया जाता है। यह मंत्र संस्कृत भाषा में है और इसका प्रयोग हनुमान भक्ति में किया जाता है।
हनुमान तारक मंत्र:
"ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्।"
इस मंत्र का जाप निम्नलिखित विधि से किया जाता है:
1. सबसे पहले, शुद्ध और पवित्र मन से ध्यान करें और हनुमानजी का ध्यान करें।
2. साफ़ और नियमित आसन पर बैठें।
3. अपने मस्तक को इशारों से ध्यान में लें और ध्यान केंद्र में रखें।
4. अपने आँखें बंद करें और मन को शांत करें।
5. सब्र के साथ मंत्र का जाप करें, हर शब्द को ध्यान से उच्चारण करें।
6. नियमित रूप से मंत्र का जाप करते रहें, जैसे कि 108 या 1008 बार।
ध्यान देने योग्य है कि अगर किसी व्यक्ति को इस मंत्र का जाप करने में अवकाश नहीं हो तो वह अपनी सामर्थ्यानुसार इसे कम बार भी जाप कर सकता है।
यह तारक मंत्र भक्तों को आध्यात्मिक और शारीरिक संबलता प्रदान करने में माना जाता है और भक्त के अधीन आने वाली समस्याओं को दूर करने में सहायक माना जाता है। हनुमान जी की कृपा से भरी इस मंत्र का नियमित जाप करने से भक्त की शक्ति, साहस, और सभी परेशानियों को परास्त करने की क्षमता में सुधार होता है।



हनुमान तारक मंत्र "ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्।" का अर्थ निम्नलिखित है:

1. "ॐ": "ॐ" वेद में प्रमुख ब्रह्माण्ड ध्वनि है, जिसे प्राणवायु का प्रतीक माना जाता है। यह ध्वनि शक्ति का प्रतीक है और ईश्वर की उपासना का प्रमुख भाग है।
2. "हं": "हं" अर्थात् हनुमान जी का बीज मंत्र है, जो हनुमानजी के वीरता, साहस, और उत्साह का प्रतीक है। इस मंत्र के जाप से हनुमान जी की कृपा मिलती है और भक्त को भयहीन बनाने में मदद मिलती है।
3. "हनुमते": इस शब्द का अर्थ हनुमान जी को समर्पित होना है। इस मंत्र का उच्चारण करने से हनुमानजी की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त होते हैं।
4. "रुद्रात्मकाय": "रुद्रात्मक" का अर्थ है रुद्र स्वरूप या रुद्र के अनुसार। यह शब्द हनुमानजी के वीरता, शक्ति, और पराक्रम का संक्षेपण है।
5. "हुं फट्": "हुं" और "फट" विशेष बीज ध्वनियाँ हैं, जिनका उच्चारण निमित्त से किया जाता है। इन बीजों का उच्चारण शक्ति और संक्षेपण को प्रकट करता है। "हुं" शब्द से वीरता और बल का दर्शन होता है, जबकि "फट" शब्द से मंत्र का संक्षेपण संपन्न होता है।
 मंत्र हनुमान भक्ति में प्रयोग किया जाता है और हनुमानजी की कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए जपा जाता है। इसके द्वारा, भक्त अपने अभियांत्रिक और आध्यात्मिक विकास में सहायता प्राप्त कर सकते हैं और भक्ति और सेवा के माध्यम से अध्यात्मिक उत्थान को प्राप्त कर सकते हैं।

हनुमान तारक मंत्र" के बारे में 15 तथ्य दे रहे हैं हिंदी में:

1. "हनुमान तारक मंत्र" भगवान हनुमान को समर्पित एक शक्तिशाली मंत्र है, जिसे भगवान राम के अभिभूत नायक के रूप में जाना जाता है।
2. इसे "हनुमान बीज मंत्र" भी कहा जाता है, जिसमें "बीज" का अर्थ होता है बीज। यह हनुमान की ऊर्जा का बीज या मूल सार है।
3. इस मंत्र का जाप संरक्षण, शक्ति, साहस, और भगवान हनुमान की कृपा की प्राप्ति के लिए किया जाता है।
4. "ॐ" का उपयोग मंत्र की शुरुआत में होता है, जो ब्रह्मांड की मूल ध्वनि को प्रतिष्ठित करता है और ईश्वर के प्रति श्रद्धा को प्रकट करता है।
5. स्वर ध्वनि "हं" (हंग) हनुमान के साथ जुड़ा एक प्रबल बीज मंत्र है, जो ईश्वरीय श्वास की शक्ति को प्रतिष्ठित करता है और वायु तत्व से जुड़ा होता है।
6. "हनुमते" एक संवत्सर रूप है, जो भगवान हनुमान की मौजूदगी को आमंत्रित करता है और उनकी कृपा को प्राप्त करता है।
7. "रुद्रात्मकाय" यह इश्वर शिव के एक भयंकर और प्रबल रूप के साथ जुड़ा हुआ है, जिससे हनुमान का संक्षेपण है।
8. "हुं" एक और प्रबल बीज ध्वनि है, जो शक्ति, जीवन शक्ति, और सुरक्षा का प्रतीक है।
9. "फट्" भगवान शिव के वज्र ध्वनि का प्रतीक है, जो संकटों को दूर करने और नकारात्मकता को नष्ट करने के लिए उपयोगी होता है।
10. "हनुमान तारक मंत्र" का नियमित जाप हनुमान की कृपा को प्राप्त करने में मदद करता है और भयहीनता का अनुभव करने में सहायक होता है।
11. इस मंत्र को बोलने से हनुमानजी की कृपा से शक्ति, साहस, और आत्मविश्वास में वृद्धि होती है।
12. अपनी कठिनाइयों और मुश्किलों को पार करने के लिए भक्त अक्सर इस मंत्र का जाप करते हैं, भगवान हनुमान की सहायता मांगते हुए।
13. इस मंत्र का उच्चारण ध्यान और ध्यान में ध्यान करने में मदद करने के लिए उपयोगी होता है।
14. भक्तों द्वारा नियमित रूप से जप किया जाने से, व्यक्ति अपनी भयहीनता
, संकोच और आत्मविश्वास को समझता है।
15. हनुमान तारक मंत्र का जाप करने से भक्ति, सेवा, और आध्यात्मिक उन्नति में सहायता मिलती है।

Comments