वराहा मंदिर के बारे में तिरुवन्नामलाई, तमिलनाडु में स्थित है

वराहा मंदिर  के बारे में तिरुवन्नामलाई, तमिलनाडु में स्थित है

वराहा मंदिर (Varaha Temple) तिरुवन्नामलाई, तमिलनाडु में स्थित है। यह मंदिर भगवान विष्णु के अवतार में वराहा (यानी सूअर की आकृति) को समर्पित है। यह एक प्रमुख हिंदू धार्मिक स्थल है और वराहा भगवान की पूजा-अर्चना के लिए प्रसिद्ध है।
तिरुवन्नामलाई एक पर्वतीय क्षेत्र है और यह भगवान विष्णु के नाम से प्रसिद्ध है, जिसे "नीलमेघ पेरुमाल" भी कहा जाता है। वराहा मंदिर तिरुवन्नामलाई में विशेष महत्व रखता है और यहां भक्तों का भरपूर आगमन होता है।
मंदिर का निर्माण तिरुवन्नामलाई तिरुवारंगनाथ स्वामी मंदिर के पास स्थित एक छोटे से गुफा में हुआ है। यह मंदिर महाबलिपुरम मंदिर संघ के नियंत्रण में है, जो तमिलनाडु के प्रमुख धार्मिक स्थलों का प्रबंधन करता है।
वराहा मंदिर में वराहा भगवान की विशाल मूर्ति स्थापित है, जिसे भक्तों द्वारा पूजा और अर्चना की जाती है। मंदिर के आस-पास सुंदर वातावरण और वन्यजीवन का आनंद लिया जा सकता है।वराहा मंदिर तिरुवन्नामलाई में भक्तों के लिए महत्वपूर्ण स्थान है और यहां उन्हें धार्मिकता और आध्यात्मिकता का अनुभव मिलता है।



वराहा मंदिर,कि एक रोचक कथा विष्णु पुराण में मिलती

वराहा मंदिर, तिरुवन्नामलाई, तमिलनाडु का एक रोचक कथा विष्णु पुराण में मिलती है। यह कथा वराह अवतार के बारे में है, जिसमें भगवान विष्णु ने वराह रूप धारण करके पृथ्वी को पाताल से उठाया था। यह कथा निम्नलिखित रूप में है:कलियुग के आदि में, राक्षस हिरण्याक्ष नामक दानव पृथ्वी को अपनी शक्तियों से ऊपर उठा कर आक्रमण करने की योजना बनाता है। दानव विश्व के सभी धर्माधर्म और देवताओं के सामर्थ्य को छुपाने के लिए पाताल में छिपा हुआ होता है।पृथ्वी की संरक्षा के लिए भगवान विष्णु वराह अवतार धारण करते हैं। वे वराह रूप में धरती पर आते हैं और पृथ्वी को दानवों के चंद्रकांत मणि के नीचे से उठाने के लिए युद्ध करते हैं। उन्होंने भयानक युद्ध करके राक्षस हिरण्याक्ष को मार डाला और दानवों के हाथ से पृथ्वी को छुड़ा लिया।
विष्णु भगवान वराह अवतार के बाद, वे तिरुवन्नामलाई के रूप में प्रसिद्ध हुए, जहां उन्हें "नीलमेघ पेरुमाल" के नाम से भी जाना जाता है। इस वराहा मंदिर में वराह भगवान की मूर्ति स्थापित है, जिसे भक्तों द्वारा पूजा किया जाता है और उन्हें भगवान विष्णु के अवतार की पूजा के लिए विशेष महत्व दिया जाता है।यह कथा भगवान विष्णु के वराह अवतार की महत्वपूर्ण घटना को दर्शाती है और तिरुवन्नामलाई के मंदिर में उनके इस अवतार के उत्सव का सम्मान किया जाता है।

विष्णु भगवान के वराहा मंदिर के बारे में 15 महत्वपूर्ण तथ्य

1. वराहा मंदिर तिरुवन्नामलाई में स्थित है, जो तमिलनाडु राज्य, दक्षिण भारत में स्थित है।
2. यह मंदिर भगवान विष्णु के वराह अवतार को समर्पित है, जिसमें विष्णु भगवान ने सूअर की आकृति धारण की थी।
3. वराहा मंदिर तिरुवन्नामलाई मंदिर समूह में एक प्रमुख मंदिर है, जिसे तिरुवन्नामलाई मंदिर पर्यटन विकास संगठन द्वारा प्रबंधित किया जाता है।
4. मंदिर का स्थापना विजयनगर साम्राज्य के समय में हुई थी और इसके बाद से ही यह महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल बना रहा है।
5. वराहा मंदिर भारतीय वास्तुकला के शानदार उदाहरणों में से एक है। इसकी वास्तुकला में दक्षिण और विजयनगर शैली का मिश्रण है।
6. मंदिर के प्रांगण में विष्णु भगवान की विभिन्न अवतारों की मूर्तियां स्थापित हैं, जिनमें राम, कृष्ण, नरसिंह, वामन, पारशुराम आदि शामिल हैं।
7. मंदिर के गोपुरम और गोपुरम के ऊपरी भाग में रंगबिरंगे स्थानीय देवताओं की चित्रणियाँ हैं।
8. वराहा मंदिर की सभी मूर्तियाँ विशेष आंदोलन और सजावट के साथ बनाई गई हैं।
9. वराहा मंदिर के प्रांगण में शिवलिंग भी स्थापित है, जिसे "तिरुवन्नामलाई ईश्वर लिंगम्" के नाम से जाना जाता है।
10. मंदिर में भगवान विष्णु के साथ ही लक्ष्मी, देवी अलगाम्बाल, गरुड़ और हनुमान जैसी देवी-देवताएं भी स्थापित हैं।
11. मंदिर का सबसे प्रसिद्ध उत्सव "वराहा उत्सव" है, जो हर साल मार्च-अप्रैल के बीच आयोजित किया जाता है। इस उत्सव में लाखों भक्त शामिल होते हैं।
12. मंदिर के पास के क्षेत्र में स्थानीय बाजारों की व्यापारिक गतिविधियाँ होती हैं, जहां आप धार्मिक और स्थानीय आइटम्स को खरीद सकते हैं।
13. वराहा मंदिर के पास तिरुवन्नामलाई पर्यटन स्थल है, जहां आप पर्यटन और आध्यात्मिकता का
 आनंद ले सकते हैं।
14. मंदिर के निकटवर्ती आकर्षण में तिरुवन्नामलाई राजकोट भी शामिल है, जो एक प्राचीन राजमहल की नक्काशी को दर्शाता है।
15. वराहा मंदिर तिरुवन्नामलाई रेलवे स्टेशन से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, और आसानी से पहुंचा जा सकता है। 

Comments