हनुमान जी का "काला धागा" एक प्रसिद्ध पौराणिक कथा है,/ The "black thread" of Hanuman ji is a famous legend,

हनुमान जी का "काला धागा" एक प्रसिद्ध पौराणिक कथा है,
जिसमें बताया जाता है कि हनुमान जी ने अपने कंधे में एक काला धागा बांधा था। यह कथा भगवान राम के भक्त और समर्थ वानर हनुमान के महात्म्य को दर्शाती है
कथा के अनुसार, जब भगवान राम, सीता, और लक्ष्मण अयोध्या के राजा दशरथ के आदेश पर वनवास जा रहे थे, तो हनुमान जी भी उनके साथ रहने के लिए तैयार थे। हनुमान जी का आकार वानररूप में था, इसलिए वे बड़े भारी होते थे। उन्हें अपने बड़े आकार के कारण चिंता थी कि वे चलने-फिरने में भगवान राम, सीता और लक्ष्मण को किसी भयंकर आकार के वानर के रूप में डरा सकते हैं।
इसी चिंता को देखते हुए, हनुमान जी ने अपने कंधे पर एक छोटे से काले धागे को बांधा। इस छोटे से धागे के कारण, भगवान राम और लक्ष्मण ने हनुमान जी को एक मासूम बच्चे के रूप में मान लिया, और वे उनके साथ आसानी से चल सकते थे।
इस कथा से हमें यह सीख मिलती है कि हनुमान जी की भक्ति और निःस्वार्थ प्रेम ने उन्हें भगवान राम के प्रिय भक्त बना दिया और उन्हें भगवान की सेवा में एक नेतृत्वी भूमिका दी। हनुमान जी की इस प्रेम भावना ने उन्हें अनगिनत शक्तिशाली बना दिया और उन्हें रामायण में एक महानायक बना दिया।


 

**काला धागा बांधने का तरीका:**

काला धागा बांधने का तरीका अत्यंत सरल होता है। निम्नलिखित हैं कुछ आम चरण:
1. **धागा का चयन:** पहले आपको एक काला रंग का धागा चुनना होगा। धागे की लंबाई आपकी आवश्यकता अनुसार हो सकती है।
2. **धागा बांधना:** धागे को बिना किसी जोड़ या गाँठ के चुम्बक पर बांध दें। इसे बांधते समय आपको अपनी संकल्पना में पूर्ण विश्वास रखना चाहिए कि यह धागा आपकी समस्याओं को दूर करेगा और सुरक्षा प्रदान करेगा।
3. **हाथ धोना:** धागा बांधने के बाद, आपको अपने हाथों को धोने की आवश्यकता होती है। धागे को बांधने के दौरान आपने अपनी ऊँगलियों से इसे छूआ होगा, इसलिए हाथ धोना शुभ होता है।
**काला धागा बांधने का मंत्र:**
काला धागा बांधते समय, कुछ लोग मंत्रों का उपयोग भी करते हैं। यहां एक सामान्य काला धागा बांधने का मंत्र दिया जा रहा है:
"ॐ काले ह्रीं फट् स्वाहा।"

**काला धागा बांधने के फायदे:**

काला धागा बांधने के लोग निम्नलिखित कुछ फायदे होने की उम्मीद करते हैं, हालांकि इन फायदों को वैज्ञानिक रूप से समर्थन नहीं किया जा सकता है:
1. सुरक्षा के लिए: इस धागे को बांधकर लोग अपने आप को बुरे नजर और नकारात्मक ऊर्जा से बचाने के लिए उपयोग करते हैं।
2. समस्याओं से रक्षा: इसे धार्मिक दृष्टिकोण से भी देखा जा सकता है, जहां इसे अधिकांश लोग समस्याओं से रक्षा के लिए बांधते हैं।
3. स्वयं संकल्पना: काला धागा बांधने के समय, आपके मन में संकल्पना बनी रहती है, जिससे आपको अपनी ऊर्जा को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।
फिर भी, कृपया ध्यान दें कि यह धागा किसी भी रोग या समस्या का उपचार नहीं है और इसे वैज्ञानिक रूप से समर्थन नहीं किया जा सकता है। यदि आपको किसी विशेष समस्या से छुटकारा चाहिए तो उचित चिकित्सा सलाह लेना अधिक उपयुक्त होगा।

मंगलवार के दिन काला धागा बांधने के फायदे।

मंगलवार के दिन दाहिने पैर में काला धाग बांधना शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इसके प्रभाव से व्यक्ति का आर्थिक जीवन सुखमय होता है। घर में धन-समृद्धि का आगमन होता है।
लोग अक्सर छोटे बच्चों को बुरी नज़र बचाने के लिए बच्चे के हाथ, पैर या गले में काला धागा बांधते हैं ताकि लोगों की बुरी नज़र से बच्चे को बचा सकें। शनि दोष से बचने के लिए भी काला धागा बांधा जाता है क्योंकि शनि ग्रह का रंग काला होता है। काला धागा पहनने से आपकी कुंडली में शनि दोष मजबूत होता है। इतना ही नहीं शनि दोष से मुक्ति पाने के लिए भी काला धागा बांधा जाता है।

काला धागा पहनने के लाभ

1. मंगलवार के दिन दाहिने पैर में काला धागा बांधना शुभ माना जाता है।
2. यदि आपके पैर में चोट लगी है या पैर में दर्द होता है तो काला धागा बांधने से चोट और दर्द दोनों जल्दी से ठीक हो जाते हैं ।
3. अगर किसी को पेट दर्द की समस्या हो तो पैर के अंगूठे में काला धागा बांधने पेट से जुड़ी हर समस्या से मुक्ति मिल जाती है।
4. अपने घर को बुरी नज़र से बचाने के लिए घर के मुख्य दरवाजे पर काले धागे में नींबू, मिर्ची बांधकर लटका दें।
5. छोटे बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए भी काले धागे बांधे जाते हैं।
काला धागा बांधने से पहले रखें इन बातों का ख्याल
1.काला धागा बांधने वाले लोगो को गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए।
2.काला धागा बांधने से पहले ज्योतिष की सलाह जरूर लें।
3.शरीर के जिस हिस्से आप काला धागा बांध रहे हैं उस हिस्से में किसी अन्य रंग का धागा नहीं बांधना चाहिए।

सावधानियों पर जो इसे पहनने से पहले ध्यान में रखनी चाहिए—

1. ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक शनिवार के दिन काला धागा बांधना बहुत शुभ होता है।
2. काले धागे पर नौ गांठें बांधने के बाद ही धारण करना चाहिए। काले धागे को मंत्रोंच्चारण करने के साथ ही पहनना चाहिए।
3. काले धागे को धारण करने के बाद शनि देव का मंत्र कम से कम 21 बार पढऩा चाहिए।
4. मंगलवार के दिन काला धागा बांधने से आर्थिक लाभ मिलता है। इस दिन दाहिने पैर में काला धागा बांधने से व्यक्ति के जीवन में सुख- समृद्धि आती है।
5. जिन लोगों को पेट दर्द की समस्या रहती हैं उन्हें पैर के अंगूठे में काला धागा बांधना चाहिए।
6. जिस हाथ में काला धागा बंधा हो उस हाथ में किसी और रंग का धागा नहीं बंधा होना चाहिए।
7. घर में बुरी शक्तियाँ प्रवेश ना करें इसके लिए काले धागे को नींबू के साथ आप घर के दरवाजे पर बांध सकते हैं।
8. घर के किसी भी सदस्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है तो शनिवार के दिन काले धागे को हनुमान जी के पैरों का सिंदूर लगाकर गले में धारण करने से रोगों से लडऩे की क्षमता बढ़ जाती है।
9. यदि घर में पैसे की कमी रहती है तो मंगलवार के दिन दाएं पैर में काला धागा बांधे। धन संबंधित सभी समस्याएँ दूर हो जाती हैं.
10. अगर आप दूसरे लोगों की बुरी नजर से बचे रहना चाहते हैं तो इस धागे को आप हाथ, पैर, गले आदि में पहन कर खुद को सुरक्षित रख सकते हैं।

Comments