घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवान शिव की महिमा /Ghrishneshwar Jyotirlinga Glory of Lord Shiva

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवान शिव की महिमा

गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग (Grishneshwar Jyotirlinga) महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले में स्थित है, जो भारत का पश्चिमी भाग में स्थित है। यह ज्योतिर्लिंग प्रमुख हिंदू मंदिरों में से एक है और भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर गृष्णेश्वर गूडा नामक छोटे गांव में स्थित है।गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग का निर्माण काल और स्थापना काफी पुरानी मानी जाती है। यह ज्योतिर्लिंग चारों युगों में भगवान शिव के महान लीलाओं के साक्षात्कार का स्थान माना जाता है।
 इसकी कथा के अनुसार, महर्षि वेदव्यास ने भगवान शिव की महिमा गान करते हुए गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग के महत्त्व का वर्णन किया है।गृष्णेश्वर मंदिर ने अपने संगठन और वास्तुकला के लिए प्रसिद्धि प्राप्त की है। यह मंदिर दक्षिण भारतीय वास्तुशास्त्र की प्रमुख शैलियों में से एक, द्रविड़ शैली में निर्मित है। इसके अलावा, इस मंदिर में अन्य देवी-देवताओं की मूर्तियाँ भी हैं जो इसे एक पूर्णतात्मक धार्मिक स्थल बनाती हैं।गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग भक्तों के लिए एक प्रमुख तीर्थ स्थल है और वर्षभर में कई यात्री यहां आते हैं। मंदिर में विशेष पूजा और आरती अवसरों पर की जाती है और श्रद्धालु यहां अपने आराध्य भगवान को समर्पित होते हैं।
गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र राज्य के पर्यटन स्थलों में से एक है और धार्मिक एवं आध्यात्मिक प्रयासों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान माना जाता है।

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा के अनुसार,

 एक बार एक ब्राह्मण वैद्य नामक राजा शिप्रारी नामक राज्य के महाराजा थे। राजा शिप्रारी धर्म परायण और न्यायप्रिय राजा थे, लेकिन वे धनी होने के कारण गर्वीले और अहंकारी भी थे।एक दिन, राजा शिप्रारी के राज्य में एक ब्राह्मण आदमी आया और वहां अपने ग्रामवासियों के लिए एक विशेष विधि से शिवलिंग की पूजा करना चाहता था। ब्राह्मण ने राजा से विनती की कि उन्हें एक स्थान प्रदान किया जाए जहां वे शिवलिंग की पूजा कर सकें।राजा ने इस प्रार्थना को अस्वीकार कर दिया और उसने ब्राह्मण को उपहास का शिकार बनाया। इस पर ब्राह्मण ने राजा को कहा कि उनकी विहीनता के कारण उनके राज्य में कोई उत्कृष्ट ईश्वरीय शक्ति नहीं है।राजा ने इस पर ब्राह्मण के ऊपर भड़क उठे और उसे मार दिया। ब्राह्मण की मृत्यु के पश्चात्, उसके परिवार ने भगवान शिव की पूजा की और उनसे अपनी निंदा करते हुए भी कृपा की विनती की।भगवान शिव ने उनकी विनती स्वीकार की और अपने अवतार के रूप में प्रकट हुए और ब्राह्मण के परिवार को सभी आपत्तियों से मुक्ति दी। उन्होंने ग्रामवासियों को भी सौभाग्य, सुख, और समृद्धि प्रदान की।इसके बाद, भगवान शिव ने उसी स्थान पर अपना ज्योतिर्लिंग स्थापित किया, जिसे गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग के नाम से जाना जाता है। गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग को भगवान शिव के शक्तिशाली और करुणामय रूप का प्रतीक माना जाता है।
इस कथा के प्रकार से गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग को एक पवित्र और महत्त्वपूर्ण स्थल के रूप में मान्यता प्राप्त हुई है, और यहां आने वाले भक्तों को भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है।

घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग (Grishneshwar Jyotirlinga) के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य 

1. गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले में स्थित है, जो भारत के पश्चिमी भाग में स्थित है।
2. यह ज्योतिर्लिंग प्रमुख हिंदू मंदिरों में से एक है और भगवान शिव को समर्पित है।
3. गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग चारों युगों में भगवान शिव के महान लीलाओं के साक्षात्कार का स्थान माना जाता है।
4. यह मंदिर दक्षिण भारतीय वास्तुशास्त्र की प्रमुख शैलियों में से एक, द्रविड़ शैली में निर्मित है।
5. गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग का मंदिर अत्यंत आकर्षक और सुंदर वास्तुकला के साथ बना हुआ है।
6. इस मंदिर में भगवान शिव के साथ-साथ देवी पार्वती की मूर्ति भी स्थापित है।
7 यह मंदिर प्रतिवर्ष शिवरात्रि के दिन भक्तों की भीड़ को आकर्षित करता है।
8. गृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग के पास कैलासनाथ गफा नामक एक प्राचीन गुफा है जिसे देवताओं का निवास स्थान माना जाता है।
9. मंदिर के पास स्थित पुण्य सरोवर नामक तालाब में ग्रामवासी और तीर्थयात्री अपने पापों को धो सकते हैं और पुण्य कर सकते हैं।
10. यह मंदिर ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसके निकट ही गया पहला ज्योतिर्लिंग, द्वारका के श्रीनाथजी ज्योतिर्लिंग का स्थान है, जिसे अद्वैत ज्योतिर्लिंग के नाम से भी जाना जाता है।

Comments