केदारनाथ ज्योतिर्लिंग प्रसिद्ध चार धामों में से एक है / Kedarnath Jyotirlinga is one of the famous Char Dham

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग प्रसिद्ध चार धामों में से एक है

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग 

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित है। यह ज्योतिर्लिंग हिमालय की पर्वतीय क्षेत्र में, गर्हवल हिमालय के श्रीकान्त पर्वत की गोद में स्थित है। केदारनाथ मंदिर उत्तराखंड के प्रसिद्ध चार धामों में से एक है और चार धाम यात्रा का महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है।केदारनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और यह प्रमुख हिंदू धार्मिक स्थलों में से एक है। मंदिर का निर्माण गर्हवल राजा भागीरथ के समय माना जाता है। इसे महाभारत काल से भी जाना जाता है और मान्यता है कि यहां पांडवों ने भगवान शिव की दर्शन के लिए आए थे।केदारनाथ मंदिर की स्थापना कर्त्ता आदि शंकराचार्य ने की थी और यह भारतीय वास्तुकला का एक अद्वितीय उदाहरण माना जाता है। मंदिर बर्फीले पर्वत शिखरों में स्थित होने के कारण वैदिक काल से ही इसका नाम 'केदारनाथ' पड़ा है।केदारनाथ मंदिर में प्रवेश के लिए यात्रीकों को पहले पंजिकरण करवाना पड़ता है और उन्हें चार यात्रा धामों के दर्शन के लिए रणगे हटाने पड़ते हैं। मंदिर के निकट गौशाला, बैराज, भगवान शिव की विग्रह, भगवान कृष्ण की मूर्ति, और चारों धामों के ग्रंथों का प्रतिष्ठान है।


केदारनाथ मंदिर को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय ढांचे में रखा गया है और यह उत्तराखंड राज्य के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यहां प्रतिवर्ष अनेक श्रद्धालु मंदिर की यात्रा करते हैं और इसका आयोजन चार धाम यात्रा के दौरान किया जाता है।

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की एक महत्वपूर्ण कथा

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग के पीछे एक महत्वपूर्ण कथा है। यह कथा महाभारत काल से जुड़ी है और महाभारत के युद्ध के बाद की घटनाओं का एक हिस्सा है
कथा के अनुसार, युद्ध के बाद पांडवों ने अपने भ्राता और गुरु द्रोणाचार्य की मृत्यु के लिए प्रायश्चित्त करने का निर्णय लिया। द्रोणाचार्य की मृत्यु के पीछे भीम और अर्जुन जैसे योद्धा के विशेष योगदान रहे थे, इसलिए पांडवों को महर्षि वेदव्यास ने बताया कि उन्हें देवों की यात्रा करनी चाहिए और उन्हें अपने पापों से मुक्ति प्राप्त करने के लिए धार्मिक तीर्थ स्थलों का दर्शन करना चाहिए।पांडवों ने देवदूत याक्ष वहन धर्मराज यमराज के रूप में प्रकट होने वाले युधिष्ठिर से परामर्श लिया। युधिष्ठिर ने उन्हें चार धामों की यात्रा की सलाह दी, जिनमें केदारनाथ ज्योतिर्लिंग भी था। यहां उन्हें भगवान शिव की प्राप्ति होगी, जो उनके पापों का क्षय करेगा।पांडवों ने यात्रा की और केदारनाथ पहुंचकर भगवान शिव की विशेष पूजा की। उन्होंने भगवान शिव से अपने पापों के क्षमाप्राप्ति की प्रार्थना की और उनके दर्शन किए। भगवान शिव ने उनकी प्रार्थना स्वीकार की और उनके पापों को माफ कर दिया। इसके बाद से केदारनाथ मंदिर भगवान शिव के आद्यात्मिक स्थान के रूप में मान्यता प्राप्त कर गया केदारनाथ ज्योतिर्लिंग की कथा महाभारत के दौरान हुए घटनाओं से जुड़ी है और इसे पांडवों के प्रायश्चित्त और उनके पापों के क्षय की कथा के रूप में जाना जाता है।
केदारनाथ ज्योतिर्लिंग (Kedarnath Jyotirlinga) उत्तराखंड, भारत में एक महत्वपूर्ण और प्रमुख धार्मिक स्थल है।

 केदारनाथ ज्योतिर्लिंग के 10 महत्वपूर्ण तथ्य 

  1. केदारनाथ ज्योतिर्लिंग, भगवान शिव को समर्पित है और यह भारत में महत्वपूर्ण शिव मंदिरों में से एक है।
  2. यह मंदिर उत्तराखंड राज्य के गर्हवल हिमालय क्षेत्र में स्थित है, जहां आपको प्राकृतिक सुंदरता और पर्वतीय दृश्यों का आनंद मिलता है।
  3. केदारनाथ मंदिर का निर्माण गर्हवल राजा भागीरथ के समय माना जाता है। मान्यता है कि इसी स्थान पर पांडवों ने भगवान शिव की दर्शन के लिए आए थे।
  4. यह मंदिर वैदिक काल से ही महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में से एक माना जाता है।
  5. केदारनाथ मंदिर अपनी भारतीय वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है। इसमें विशाल गोपुरम्, स्तूप, और समीपवर्ती आध्यात्मिक स्थल हैं।
  6. मंदिर के पास चारों ओर अनेक प्राकृतिक झरनों और नदियों का विकास किया गया है, जिनमें मंडाकिनी नदी सबसे प्रमुख है।
  7. केदारनाथ यात्रा धार्मिकता, आध्यात्मिकता, और त्याग की भावना को प्रकट करती है। यह धार्मिक यात्रा भारतीय और विदेशी श्रद्धालुओं को आकर्षित करती है।
  8. केदारनाथ मंदिर के निकट स्थित चोपट तालाब मान्यता से भरा हुआ है, जिसे भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय द्वारा बनाया गया माना जाता है।
  9. यह मंदिर चार धाम यात्रा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और प्रतिवर्ष लाखों श्रद्धालु यहां आते हैं ताकि वे भगवान शिव की पूजा कर सकें।
  10. केदारनाथ मंदिर सर्वाधिक यात्रा के दौरान चार महीनों के लिए ही खुला रहता है। इसका निर्माण सर्वाधिकतम ऊँचाई पर हुआ है, जिसे व्यक्तिगत यात्रा के दौरान पैदल जाकर प्राप्त किया जा सकता है।

Comments