गणेश आरती - हिंदी में अर्थ सहित

गणेश आरती - हिंदी में अर्थ सहित

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा

श्री गणेश

जय गणेश , जय गणेश , जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती , पिता महादेवा॥
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा |
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ||
अर्थ:
आपकी जय हो, हे गणेश देव, आपकी जय हो, हे गणेश देव, आपकी जय हो, हे देव गणेश देवा।आप माता पार्वती से जन्मे हैं और भगवान शिव आपके पिता हैं।
एक दन्त दयावन्त , चार भुजाधारी।
स्मारक पर तिलक सोहे , मूस की सवारी ॥
एक दन्त दयावन्त, कार भुजाधारी |
माथे पर तिलक सोहे, मुसे की सवारी ||
अर्थ:
आपके पास एक दांत है, आप करुणा से भरे हुए हैं और आपके चार हाथ हैं।आपके माथे पर एक सुंदर सिन्दूर का टीका है, और आप अपने वाहन पर सवार हैं जो चूहे के रूप में है।

पान चढ़ें , फूल चढ़ें और चढ़ें मेवा।
लाडूअन को भोग लागे , संत करे सेवा॥
पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा |
लड्डुअन को भोग लगे, संत करे सेवा ||
अर्थ:
भक्त आपको पान (पान के पत्ते), फूल, मेवा (सूखे फल),और लड्डू के रूप में मिठाई चढ़ाते हैं; संत आपको भक्तिपूर्ण सेवाएँ प्रदान करते हैं।
अँधेरे को आँख देत , कोडिन को काया।
बांझन को पुत्र देत , निर्धन को माया॥
अँधे को आँख देत, कोढ़िन को काया |
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को मैया ||
अर्थ:
तू अन्धे को दृष्टि देता है, और कोढ़ी को चंगा करता है।
तू बांझ को सन्तान, और दीन को धन देता है।

सूरश्याम शरण आयें सफल कीजे सेवा |
माता जाकी पार्वती , पिता महादेवा॥
सुउरश्याम शरणं आए सफल कीजे सेवा |
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ||
अर्थ:
हम दिन-रात आपकी प्रार्थना करते हैं। कृपया हमें सफलता प्रदान करें।
आप माता पार्वती से जन्मे हैं और भगवान शिव आपके पिता हैं।

जय गणेश , जय गणेश , जय गणेश देवा ॥
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा ||
अर्थ:
आपकी जय हो, हे भगवान गणेश, आपकी जय हो, हे भगवान गणेश, आपकी जय हो, हे भगवान गणेश देवा।

श्री गणेश भगवान की आरती के मंत्र हिंदी अर्थ सहित 

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥
वक्रतुण्ड: अर्थात् वक्र (विकृत) गणेश जिसके शरीर की अद्भुत आकृति है, 
महाकाय: जिसके शरीर बड़ा है, 
सूर्यकोटि समप्रभ: जिसकी तेज आदित्य (सूर्य) के समान चमकदार है, 
निर्विघ्नं: जो विघ्नरहित है, कुरु मे देव: हे देव, मेरे सभी कार्यों में विघ्न हरो। सर्वकार्येषु सर्वदा: सभी कार्यों में हमेशा।
एकदन्ताय विद्धमहे, वक्रतुण्डाय धीमहि।
तन्नो दंति प्रचोदयात्॥
एकदन्ताय: जिसका एक ही दांत है, 
विद्धमहे: हम उसे ध्यान में लाते हैं, 
वक्रतुण्डाय: वक्र गणेश को हम पूजते हैं, 
धीमहि: हम उसे ध्यान में रखते हैं, 
न्नो दंति: उस दांतवान गणेश को हमारी बुद्धि प्रचोदित करे।
अगजानन पद्मार्कं गजाननं अहर्निशम्।
अनेकदंतं भक्तानां एकदन्तं उपास्महे॥
अगजानन: जिसका जन्म अज नहीं हुआ (अज अर्थात् जिसका जन्म नहीं होता),
पद्मार्कं: जिसके पादों में विशेष चिह्न हैं (पद्म अर्थात् कमल के चिह्न हैं),
गजाननं: जिसके मुख गज के समान हैं
अहर्निशम्: दिन-रात्रि (अहर्) निरंतर (निशम्)। 
अनेकदंतं: जिसके अनेक दांत हैं, 
भक्तानां एकदन्तं उपास्महे: हम उस एकदंत गणेश को पूजते हैं।
विघ्नहरणं भवभयनाशनं।
भवताम् अखिलं विघ्नदं एकदन्तम्॥
विघ्नहरणं: जो विघ्न नष्ट करता है,
भवभयनाशनं: जो भव (संसार) और
 भय का नाश करता है, भवताम् 
अखिलं: सभी लोगों का, 
विघ्नदं एकदन्तम्: विघ्नरूपी एकदंत गणेश को।
लम्बोदरं पिताम्बरं सुरेशं।
गौरीसुतं गजाननं विघ्नविनायकं॥
लम्बोदरं: जिसके बड़े उभय हुए पेट हैं,
पिताम्बरं: जिसके प्रधान वस्त्र में पीताम्बर (हरा-पीला कपड़ा) हैं,
सुरेशं: देवताओं के श्रेष्ठ नेता (सुरेश अर्थात् देवराज इंद्र) हैं, 
गौरीसुतं: गौरी (पार्वती) का पुत्र, 
गजाननं: गजमुख (गज के समान चेहरा) वाले, 
विघ्नविनायकं: विघ्नविनाशक एकदंत गणेश को।
ॐ गजाननं भूतगणाधिसेवितं।
कपित्थजम्बूफलसारभक्षितम्॥
ॐ:
ओंकार (ब्रह्म), 
गजाननं: गजमुख (गज के समान चेहरा) वाले, 
भूतगणाधिसेवितं: जिसे भूत गण भक्ति से सेवित करते हैं, 
कपित्थजम्बूफलसारभक्षितम्: जिसको कपित्थ और जम्बू फल (लड्डू के रूप में प्रसिद्ध) का भोग लगता है।
उमासुतं शोकविनाशकारणं।
नमामि विघ्नेश्वर पादपङ्कजम्॥
उमासुतं: उमा (पार्वती) का पुत्र, 
शोकविनाशकारणं: जो शोक को नष्ट करने वाला हैं, 
नमामि: मैं नमन करता हूँ, 
विघ्नेश्वर: विघ्नकारी गणेश, 
पादपङ्कजम्: उनके पादों में।
वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ।
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा

Comments