महादेव के पिनाक धनुष की कथा /Story of Mahadev's Pinak Dhanush

 महादेव के पिनाक धनुष की कथा

महादेव (शिव) के पिनाक धनुष की कथा हिंदू पौराणिक कथाओं में प्रस्तुत की जाती है। इस कथा के अनुसार, एक समय पर्वतराज हिमालय (पार्वती के पिता) अपनी पुत्री पार्वती को संपूर्ण देवीयों के समक्ष प्रस्तुत करने का निर्णय लेते हैं। वह उमापति महादेव के द्वारा विवाहित होने की आशा करते हैं।
हिमालय अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए देवताओं के देश स्वर्ग में चले जाते हैं और वहां देवताओं से अपनी बेटी की विवाह का आयोजन करने की अनुमति प्राप्त करते हैं। इसके बाद वह अपने घर के लिए लौटते हैं। परंतु उन्होंने यह नहीं देखा कि उनकी पुत्री पार्वती ने शिव का रूप धारण कर लिया है और वहीं स्वर्ग में उमापति महादेव के सामने आती है।पार्वती उमापति महादेव के सामने जाकर उन्हें अपने पिता के पास जाने की विनती करती हैं, परंतु महादेव उन्हें पहचान नहीं पाते हैं। इस पर पार्वती विषादित होती हैं और उन्हें विवाह के लिए अपने पिता की अनुमति नहीं मिलती है।इस घटना के बाद, पार्वती त्रिपुरासुर नामक दानव को वध करने के लिए महादेव द्वारा प्रेरित होती हैं और उन्हें विजय प्राप्त होती है। उसके बाद पार्वती को एक तपस्विनी द्वारा उनके विवाह का वृत्तांत सुनाया जाता हैं।जब पार्वती अपने पिता के पास जाकर आती हैं, तो हिमालय अपनी अज्ञानता को समझते हैं और उन्हें उमापति महादेव के साथ विवाह के लिए अनुमति देते हैं। उस समय महादेव अपने पिनाक धनुष को खींचते हैं और तब पार्वती को पहचानते हैं। उनका विवाह सम्पन्न होता हैं और उन्हें सुहागिन बनाया जाता हैं। कथा के अनुसार, महादेव के पिनाक धनुष की महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं, जो पार्वती के विवाह को संपन्न करने के लिए आवश्यक होती हैं।

 कथा के अनुसार

भगवान श्री राम ने सीता जी के स्वयंवर में गुरु विश्वामित्र जी की आज्ञा से शिवजी का कठोर धनुष तोड़ कर सीता जी से विवाह किया था। लेकिन शिवजी का वह धनुष किसने और किससे बनाया था तथा वह शिव धनुष महाराज जनक जी केपास कैसे पहुंचा, इस रहस्य को बहुत कम लोग जानते हैं।पिनाक धनुष की बड़ी विचित्र कथा है। कहते हैं एक बार घोर कानन के अंदर कण्व मुनि बड़ी भारी तपस्या कर रहे थे। तपस्या करते करते समाधिस्थ होने के कारण उन्हें भान ही नहीं रहा कि उनका शरीर दीमक के द्वारा बाँबी बना दिया गया। उस मिट्टी के ढ़ेर पर ही एक सुंदर बाँस उग आया। कण्व जी की तपस्या जब पूर्ण हुई, तब ब्रह्मा जी प्रकट हुए और उन्होंने अपने अमोघ जल के द्वारा कण्व जी की काया को सुंदर बना दिया। ब्रह्मा जी ने उन्हें अनेक वरदान प्रदान किए और जब ब्रह्मा जी जाने लगे, तब उन्हें ध्यान आया कि कण्व की मूर्धा पर उगी हुई बाँस कोई साधारण नहीं हो सकती। इसलिए इसका सद्उपयोग किया जाना चाहिए। यह विचारकर ब्रह्मा जी ने वह बाँस काटकर विश्वकर्मा जी को दे दिया। विश्वकर्मा जी ने उससे दो दिव्य धनुष बनाये, जिनमें एक जिसका नाम सारंग था, उन्होंने भगवान विष्णुजी को और एक जिसका नाम पिनाक था,‌शिव जी को समर्पित कर दिया।
पिनाक धनुष धारण करने के कारण ही शिवजी को पिनाकी कहा जाता है। शिवजी ने जिस पिनाक धनुष को धारण किया था, उसकी एक टंकार से बादल फट जाते थे और पृथ्वी डगमगा जाती थी। ऐसा लगता था मानों कोई भयंकर भूकंप आ गया हो। यह असाधारण धनुष अत्यंत ही शक्तिशाली था। इसी के मात्र एक ही तीर से भगवान शंकर ने त्रिपुरासुर की तीनों नगरियों को ध्वस्त कर दिया था। देवी और देवताओं के काल की समाप्ति के बाद यह धनुष देवताओं को सौंप दिया। देवताओं ने इस धनुष को महाराजा जनक जी के पूर्वज देवरात को दे दिया।महाराजा जनक जी के पूर्वजों में निमि के ज्येष्ठ पुत्र देवरात थे। शिवजी का वह धनुष उन्हीं की धरोहर स्वरूप जनक जी के पास सुरक्षित था। इस शिव-धनुष को उठाने की क्षमता कोई नहीं रखता था। एक बार देवी सीता जी ने इस धनुष को उठा दिया था, जिससे प्रभावित हो कर जनक जी ने सोचा कि यह कोई साधारण कन्या नहीं है। अत: जो भी इससे विवाह करेगा, वह भी साधारण पुरुष नहीं होना चाहिए। इसी लिए ही जनक जी ने सीता जी के स्वयंवर का आयोजन किया था और यह शर्त रखी थी कि जो कोई भी इस शिव-धनुष को उठाकर, तोड़ेंगा, सीता जी उसी से विवाह करेंगीं । उस सभा में भगवान श्री राम ने शिव-धनुष तोड़ कर सीता जी से विवाह किया था। जब शिवजी का वह कठोर धनुष टूटा तो उसकी ध्वनि सुनकर परशुराम जी इसलिए क्रोधित होकर जनक जी की सभा में आए थे क्योंकि भगवान शंकर, परशुराम जी के आराध्य देव हैं।
हर हर महादेव 

Comments