भगवान शिव के हाथ में त्रिशूल क्यों? /Why Trishul in Lord Shiva's hand?

 भगवान शिव के हाथ में त्रिशूल क्यों?

भगवान शिव के हाथ में त्रिशूल वे एक पौराणिक प्रतीक हैं जो हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण है। त्रिशूल भगवान शिव के प्रमुख परिचारक हैं और उनकी विशेषता को प्रतिष्ठित करते हैं। इसके साथ ही, त्रिशूल के पांच प्रतीकों का प्रतिष्ठान भी किया जाता है: त्रिकुटी (त्रिमूर्ति), नंदीश्वर, पशुपति, अर्धनारीश्वर और नटराज।त्रिशूल का प्रतीकित आकार तीन मुखों वाला होता है, जिसे त्रिकुटी कहा जाता है। यह त्रिशूल शक्ति, ज्ञान और नियंत्रण की प्रतीक है। शिव भगवान को त्रिशूल द्वारा सारे दुष्ट और अनाधिकृत कार्यों का नाश करने और धर्म की रक्षा करने की शक्ति प्राप्त होती है। इसके अलावा, त्रिशूल उनके अधिकार के प्रतीक के रूप में भी सम्मानित किया जाता है।त्रिशूल के प्रतीक के रूप में, यह शिव भगवान के परम भक्त और देवी पार्वती के प्रतीक भी है। त्रिशूल पूरे ब्रह्मांड के अधिपति के रूप में भी प्रतिष्ठित है और यह सृष्टि, स्थिति और संहार की संकेत करता है।सारांश के रूप में, भगवान शिव के हाथ में त्रिशूल उनकी महत्वपूर्ण पहचान है और इसे शक्ति, नियंत्रण और न्याय का प्रतीक माना जाता है। यह उनकी शक्ति को प्रदर्शित करता है जो दुष्टता का नाश करती है और धार्मिकता और सत्य की रक्षा करती है।
त्रिशूल भगवान शिव का प्रमुख अस्त्र है। यदि त्रिशूल का प्रतीक चित्र देखें तो उसमें तीन नुकीले सिरे दिखते हैं। यूं तो यह अस्त्र संहार का प्रतीक है पर वास्तव में यह बहुत ही गूढ़ बात बताता है। संसार में तीन तरह की प्रवृत्तियां होती हैं- सत, रज और तम। सत मतलब सात्विक, रज मतलब सांसारिक और तम मतलब तामसी अर्थात निशाचरी प्रवृति। हर मनुष्य में ये तीनों प्रवृत्तियां पाई जाती हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि इनकी मात्रा में अंतर होता है। त्रिशूल के तीन नुकीले सिरे इन तीनों प्रवृत्तियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। त्रिशूल के माध्यम से भगवान शिव यह संदेश देते हैं कि इन गुणों पर हमारा पूर्ण नियंत्रण हो। यह त्रिशूल तभी उठाया जाए जब कोई मुश्किल आए। तभी इन तीन गुणों का आवश्यकतानुसार उपयोग हो।

भगवान शिव के हाथ में त्रिशूल कई महत्वपूर्ण कारणों से संबंधित है:

1. सत्य और अधर्म का नाश: त्रिशूल भगवान शिव की शक्ति का प्रतीक है और उसके द्वारा उन्हें अधर्म और अन्याय का नाश करने की क्षमता प्राप्त होती है। त्रिशूल को भगवान की प्रमुख आयुध माना जाता है, जिसे उन्होंने दुष्टता और दुष्ट शक्तियों के खिलाफ लड़ने के लिए प्रयोग किया है।
2. त्रिमूर्ति: त्रिशूल के तीन मुख प्रतिष्ठित किए जाते हैं, जिसे त्रिकुटी नामक भी कहा जाता है। ये मुख ब्रह्मा, विष्णु और महेश्वर को प्रतिष्ठित करते हैं और इस रूप में त्रिशूल त्रिमूर्ति के प्रतीक के रूप में भी प्रयोग होता है। त्रिमूर्ति शिव की त्रयी शक्तियों (सृष्टि, स्थिति और संहार) को प्रतिष्ठित करती हैं।
3. आत्मा के नियंत्रण: त्रिशूल को भगवान शिव की आत्मा के नियंत्रण का प्रतीक माना जाता है। यह शिव की अंतरात्मा के प्रतीक है जो अपार शक्ति और ज्ञान का प्रतिष्ठान करती है।त्रिशूल उनकी संतुलन और नियंत्रण क्षमता को प्रतिष्ठित करता है।
4. शक्ति की प्रतीक्षा: त्रिशूल भी भगवान शिव की शक्ति और प्रतिष्ठा का प्रतीक है। इसे धारण करने वाले भक्त शक्तिशाली होते हैं और इसके माध्यम से वे अधिक शक्तिशाली होने का अनुभव करते हैं।इन सभी कारणों से त्रिशूल भगवान शिव के हाथ में होता है, और यह उनकी शक्ति, नियंत्रण और न्याय की प्रतीक होती है।

भगवान शिव के त्रिशूल का धारण करने का रहस्य 

भगवान शिव के त्रिशूल का धारण करने का रहस्य विशेष आध्यात्मिक महत्व रखता है। यह रहस्य मान्यताओं, पौराणिक कथाओं और धार्मिक अर्थों से संबंधित है। यहां कुछ महत्वपूर्ण रहस्यों का उल्लेख किया गया है:

त्रिशूल की त्रिवेणी: त्रिशूल की तीनों खुदाईयाँ (शंकु, चाप और पट्टी) व्यक्तिगत, दैवीय और आध्यात्मिक जीवन के तीन पहलुओं का प्रतीक हो सकती हैं। यह शरीर, मन और आत्मा के तीनों का नियंत्रण करने की शक्ति को दर्शाती है।
दुष्टता के नाश का प्रतीक: त्रिशूल भगवान शिव की शक्ति का प्रतीक है जो अधर्म, दुष्टता और भ्रष्टाचार को नष्ट करने की क्षमता रखती है। त्रिशूल के धारण से भक्त अपने आसपास के दुष्टता और अशुभता का नाश कर सकते हैं और न्याय, सत्य और धर्म को स्थापित करने में सक्षम होते हैं।
त्रिशूल के प्रतीक भूत शक्ति: त्रिशूल शिव की भूत-शक्ति का प्रतीक माना जाता है, जो ब्रह्माण्ड की उद्दीप्त शक्ति है। इसके धारण से भक्त आत्मिक ज्ञान, प्रज्ञा और उच्च स्तर की आध्यात्मिक प्राप्ति में समर्थ होते हैं।
संयम और संतुलन: त्रिशूल के धारण का एक रहस्य संयम और संतुलन की प्राप्ति है। यह भक्त को अपनी मनोवृत्तियों, इच्छाओं और विषयों के प्रति संयमी बनाता है और उसे आध्यात्मिक मार्ग पर स्थिरता और संतुलन प्रदान करता है।
*1-भगवान शिव का त्रिशूल त्रिगुणों सतगुण, रजगुण और तमगुण का प्रतीक है, जिनके सम्मिलन और विगलन से ही सृष्टि की उत्पत्ति और प्रलय होता है।

*2-भगवान शिव के त्रिशूल के तीन शूल सृष्टि की उत्पत्ति, पालन और संहार के प्रतीक हैं। देवाधिदेव महादेव ही स्वयं महाकाल हैं, सृष्टि की उत्पत्ति, पालन और संहार उनमें ही समाहित है।

*3-शंकर जी का त्रिशूल मानव जीवन के तीनों प्रकार के कष्टों दैहिक, दैविक और भौतिक का विनाशक है।

*4-मान्यता है कि भगवान शिव शम्भू का त्रिशूल महाकाल के तीनों कालों वर्तमान, भूत और भविष्य का प्रतीक है।

*5-योग शास्त्र में भगवान शिव को आदियोगी माना गया है। उसके अनुसार शंकर जी का त्रिशूल वाम भाग में स्थित इड़ा, दक्षिण भाग में स्थित पिंगला तथा मध्य भाग में स्थित सुषुम्ना नाड़ियों का प्रतीक है।

यद्यपि ये रहस्य शिव के त्रिशूल के धारण के पीछे होने वाले विभिन्न आध्यात्मिक आर्थिक कारण हैं, लेकिन इनका महत्व और व्याख्यान धार्मिक और संस्कृतिक विश्व में भिन्न-भिन्न हो सकता है। हर व्यक्ति की आध्यात्मिक अनुभव और संबंध अपने अनुभवों और आचरण से जुड़ा होता है, इसलिए यह धार्मिक मामला व्यक्ति के विशेष आध्यात्मिक योग्यताओं पर निर्भर करता है।

Comments