हिंगलाज शक्तिपीठ /Hinglaj Shaktipeeth

हिंगलाज शक्तिपीठ

हिंगुला या हिंगलाज शक्तिपीठ जो कराची से 125 किमी उत्तर पूर्व पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान प्रान्त में स्थित एक हिन्दू मंदिर है। माता हिंगलाज शक्तिपीठ, जहां माता का ब्रह्मरन्ध्र (सर का ऊपरी भाग) गिरा था। यहां की शक्ति कोट्टरी और भैरव भीमलोचन है। हिंगलाज देवी से सम्बन्धित छंद गीत चिरजाए अवश्य मिलती है। प्रसिद्ध है कि सातो द्वीपों में सब शक्तियां रात्रि में रास रचाती है और प्रात:काल सब शक्तियां भगवती हिंगलाज के गिर में आ जाती है।सातो द्वीप शक्ति सब रात को रचात रास।
प्रात:आप तिहु मात हिंगलाज गिर में॥
इस शक्तिपीठ में शक्तिरूप ज्योति के दर्शन होते हैं। गुफ़ा में हाथ व पैरों के बल जाना होता है। मुसलमान हिंगुला देवी को ‘नानी’ तथा वहाँ की यात्रा को ‘नानी का हज’ कहते हैं। पूरे बलूचिस्तान के मुसलमान भी इनकी उपासना व पूजा करते हैं माता सती के 51 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ पाकिस्तान के कब्जे वाले बलूचिस्तान में स्थित है। इस शक्तिपीठ की देखरेख मुस्लिम करते हैं और वे इसे चमत्कारिक स्थान मानते हैं। इस मंदिर का नाम है माता हिंगलाज का मंदिर। हिंगोल नदी और चंद्रकूप पहाड़ पर स्थित है माता का ये मंदिर। सुरम्य पहाड़ियों की तलहटी में स्थित यह गुफा मंदिर इतना विशालकाय क्षेत्र है कि आप इसे देखते ही रह जाएंगे। इतिहास में उल्लेख मिलता है कि यह मंदिर 2000 वर्ष पूर्व भी यहीं विद्यमान था।
मां हिंगलाज मंदिर में हिंगलाज शक्तिपीठ की प्रतिरूप देवी की प्राचीन दर्शनीय प्रतिमा विराजमान हैं। माता हिंगलाज की ख्याति सिर्फ कराची और पाकिस्तान ही नहीं अपितु पूरे भारत में है। नवरात्रि के दौरान तो यहां पूरे नौ दिनों तक शक्ति की उपासना का विशेष आयोजन होता है। सिंध-कराची के लाखों सिंधी हिन्दू श्रद्धालु यहां माता के दर्शन को आते हैं। भारत से भी प्रतिवर्ष एक दल यहां दर्शन के लिए जाता है।

इक्यावन शक्तिपीठों में शिरोमणि : हिंगलाज शक्तिपीठ!

ऐसी मान्यता है कि आसाम की कामाख्या, तमिलनाडु की कन्याकुमारी, कांची की कामाक्षी, गुजरात की अम्बादेवी, प्रयाग की ललिता, विंध्याचल की अष्टभुजा, कांगड़ा की ज्वालामुखी, वाराणसी की विशालाक्षी, गया की मंगला देवी, बंगाल की सुंदरी, नेपाल की गुह्येश्वरी और मालवा की कालिका—इन बारह रूपों में आद्या शक्ति मां हिंगलाज सुशोभित हो रही हैं। कहा जाता है कि हर रात सभी शक्तियां यहां मिल कर रास रचाती हैं और दिन निकलते ही हिंगलाज देवी में समा जाती हैं।
‘देवी भागवत’ में 108 शक्तिपीठों का वर्णन है; परन्तु ज्यादातर पुराणों में उनके 51 शक्तिपीठों की ही मान्यता है।
‘हिंगलाज’ ‘आग्नेय शक्तिपीठ’ है । हिंगलाज देवी’ का मंदिर ‘अग्नि देवी’  के नाम से समर्पण किया हुआ है । यहां सती के अंगों में सर्वश्रेष्ठ अंग ‘ब्रह्मरन्ध्र’ (कपाल, किरीट) गिरा था; इसलिए 51 शक्तिपीठों में इसे सर्वश्रेष्ठ माना गया है । यहां सती ‘भैरवी, ‘कोट्टरी’ और शिव ‘भीमलोचन’ कहे जाते हैं। 
भारत के विभाजन के बाद हमारे अनेक तीर्थ स्थान पाकिस्तान में पड़ कर हम लोगों के लिए काफी दूर हो गए। 
यह शक्तिपीठ पश्चिमी पाकिस्तान में बलूचिस्तान के लासबेला स्थान में हिंगोल नदी के तट पर कराची से 90 मील उत्तर-पश्चिम में है। हिन्दू यात्री देवी को ‘हिंगलाज’ और ‘हिंगुदा’ कहते हैं । मां हिंगलाज की पूजा हिंदुओं के अतिरिक्त बलूचिस्तान के मुसलमान भी करते हैं। वे हिंगलाज देवी को ‘बीबी नानी’ और वहां की तीर्थयात्रा को ‘नानी की हज’ कहते हैं । वे देवी को लाल कपड़ा, अगरबत्ती, मोमबत्ती, इत्र-फुलेल तथा सिरनी चढ़ाते हैं।
यहां गुफा के अंदर मां हिंगलाज का ज्योति के रूप में दर्शन होता हैं । हिंगलाज की गुफा में पृथ्वी से निकलती हुई ज्योति है। गुफा में हाथ-पैर के बल जाना पड़ता है । साथ में काली मां का भी दर्शन होता है।
ऐसा माना जाता है कि श्रीराम ने रावण का वध करने के बाद ब्रह्महत्या से मुक्ति पाने के लिए यहां आकर तपस्या की थी और वे ब्रह्महत्या के पाप से मुक्त हो गए थे । इसका प्रमाण यह है कि माता हिंगलाज की गुफा के बाहर पर्वत-शिखर से लटकती हुई शिला पर सूर्य और चन्द्र अंकित हैं । भगवान श्रीराम ने अपनी तपस्या के बाद अपनी उपस्थिति प्रमाणित करने के लिए अपने हाथों ये सूर्य-चन्द्र अंकित किए थे। यह एक अमानुष कृति है क्योंकि कोई भी मानव पर्वत शिखर से लटकती शिला पर इस प्रकार की आकृति अंकित नहीं कर सकता है।
हिंगलाज देवी की पूजा की सामग्री है—दीपबत्ती, अगरबत्ती, कपूर, नारियल, पंचमेवा, सिंदूर, मिश्री, लाला कपड़ा और मणियों की माला जिसे ‘ठुमरा’ कहते हैं । इस चूना पत्थर की माला के पीछे एक पौराणिक कथा है—

 ‘ठुमरा’ और ‘आशापुरी’ मालाएं

हिंगलाज का ठुमरे का दाना प्रसिद्ध है । इसकी माला साधु लोग पहनते हैं । ये मालाएं चूना-पत्थर के मणि से बनती हैं । ऐसे पत्थर हिंगलाज क्षेत्र में ही मिलते हैं । ऐसी छोटी माला के दानों को ‘ठुमरा’ कहते हैं और बड़ी माला के दानों को ‘आशापुरी’ कहते हैं । ऐसी मालाएं खरीद कर यात्री हिंगलाज माता के चरणों में अर्पण करते हैं।

इन ठुमरा और आशापुरी दानों के सम्बन्ध में एक पौराणिक कथा है—

एक बार कैलाश से भगवान शिव और माता पार्वती आशापुरी जंगल के रास्ते से हिंगलाज पीठ जा रहे थे। शिवजी ने पार्वती जी से कहा—‘मैं थक गया हूँ और भूखा भी हूँ । तुम यहां खिचड़ी पकाओ, तब तक में जंगल से बाहर निकलने का मार्ग ढूंढता हूँ।’
शिव जी ने पार्वती जी की रक्षा के लिए एक मंत्र युक्त भस्म की रेखा खींच दी, ताकि यदि कोई उस रेखा का उल्लंघन करे तो भस्म हो जाए । इसके बाद शिवजी सुरक्षा के लिए अपना अमोघ त्रिशूल भी पार्वती जी को देकर वहां से निकल गए । पार्वती जी खिचड़ी बनाने लगीं।उसी समय एक भयंकर असुर वहां पर आया । घने जंगल में पार्वती जी को देख कर वह काम-पीड़ित हो गया और उन्हें पकड़ने के लिए दौड़ा । यह देखकर क्रुद्ध पार्वती जी ने शिव-त्रिशूल असुर के पेट में भोंक दिया । असुर के देह से जो रक्त का फुहारा छूटा, वह खिचड़ी में पड़ गया और वह अपवित्र हो गई।
कुछ ही देर में शिवजी वापिस लौटे तो उन्होंने पार्वती जी के क्रोध को शांत किया । मरणासन्न असुर ने शिवजी के चरण-कमलों में अपना सिर रख कर उन से मुक्ति देने की प्रार्थना की । भगवान शिव तो ‘आशुतोष’ हैं, उन्होंने असुर को ‘तथास्तु’ कह दिया । तुरंत ही असुर की देह भस्म का पहाड़ बन गई और उसकी आत्मा शिव लोक चली गई।देवी पार्वती ने वह अपवित्र अन्न वन में फेंक दिया । खिचड़ी के दाने तुरंत चूना-पत्थर हो गए । इन चूना-पत्थरों को पवित्र ‘ठुमरा’ और ‘आशापुरी’ दाने (मणि) होने का पार्वती जी ने वरदान दिया ।

हिंगलाज शक्तिपीठ की यात्रा के नियम!

कराची से 6 मील दूर ‘हाव’ नदी है । यहीं से हिंगलाज की यात्रा आरम्भ होती है। देवी के दर्शन कराने वाले पुरोहित को ‘छड़ीदार’ कहते हैं, जिसके हाथ में त्रिशूल के आकार की एक छड़ी रहती है, जिस पर पताका लगी रहती है। हिंगलाज शक्तिपीठ की यात्रा करते समय वहां के पंडे तीर्थयात्रियों को कुछ नियम बताते हैं । जैसे—
▪️ यात्रा का श्रीगणेश करते समय तीर्थयात्रियों को एक गेरुआ वस्त्र दिया जाता है और शपथ दिलाई जाती है कि ‘जब तक माता हिंगलाज के दर्शन कर वापिस नहीं लौटेंगे, तब तक संन्यास धर्म का पालन करेंगे।’
▪️ एक-दूसरे की यथाशक्ति सहायता करेंगे।
▪️ तीर्थ यात्री अपने हृदय में ईर्ष्या-द्वेष, निंदा आदि के भाव नहीं लायेंगे।
▪️ किसी भी हालत में अपनी सुराही का पानी किसी दूसरे को नहीं देंगे। भले ही वे आपस में पति-पत्नी, पिता-पुत्र, मां-बेटा या गुरु-शिष्य ही क्यों न हों । अपनी सुराही का पानी स्वयं ही पियेंगे।
▪️ जो इस नियम का उल्लंघन करेगा, उसकी मृत्यु संभव है।

अत्यंत कठिन है हिंगलाज शक्तिपीठ की यात्रा

हिंगलाज शक्तिपीठ की यात्रा कराने वाले छड़ीदार तीर्थयात्रियों को अपनी-अपनी सुराही ‘हाव’ नदी से भर लेने का आदेश देते हैं । फिर माता हिंगलाज का जयकारा बोल कर रेगिस्तान की यात्रा शुरु होती है, जो कि आग की नदी में चलने के समान है । जहां भी पानी और ठहरने के लिए जगह मिले वहीं पड़ाव डालना होता है।
मरुस्थल की यात्रा करते हुए चपटी पहाड़ियों के बीच एक धुआं उगलता हुआ ऊंचा पहाड़ आता है, जिसे ‘चन्द्रकूप-तीर्थ’ कहते हैं। यह अंदर से खौलता हुआ और आग उगलता हुआ ज्वालामुखी ही है। 
वहां जाकर हर व्यक्ति को अपने गुप्त पापों का विवरण देना होता है । जो अपने पापों (भ्रूण-हत्या और स्त्री-हत्या) को स्वीकार करके आगे वैसा न करने का वचन देता है, उसे ‘चन्द्रकूप-दरबार’ माता हिंगलाज के दर्शन के लिए आज्ञा दे देते हैं । जो अपने पापों को छिपाये रखते हैं, उसे दर्शन के लिए आगे जाने की आज्ञा नहीं मिलती है। पाप स्वीकार करने वालों का नारियल आदि पूजा चन्द्रकूप बाबा स्वीकार कर लेते है, पाप छिपाने वालों के नारियल वहीं पड़े रह जाते हैं।हिंगुलाज की गुफा तक पहुंचने से पहले अघोर नदी में स्नान करना पड़ता है और गीले कपड़ों से ही माता हिगलाज के महल में पहुंचते हैं । ऐसा माना जाता है कि यह महल मनुष्यों ने नहीं, यक्षों ने बनाया है । यह एक निराली रहस्यमयी नगरी है । हवा नहीं, प्रकाश नहीं, रंग-बिरंगे पत्थर लटके हुए। पिघले हुए पत्थरों की चाहर दीवारी एवं छत और नीचे भी रंगीन पत्थरों का फर्श। 
गुफा के अंतिम भाग में मां का सिंदूर लगा हुआ पाषाण विग्रह लाल वस्त्र से ढका रहता है । मां का रूप शयन मुद्रा का है अत: उनके शीश और नेत्र के दर्शन होते हैं । मंदिर के साथ ही गुरु गोरखनाथ का चश्मा है । ऐसा माना जाता है कि माता रोज सुबह यहां स्नान करने आती हैं। 
या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

Comments