संतोषी मां की पूजा कैसे करें /How to worship Santoshi Maa

संतोषी मां की पूजा कैसे करें

संतोषी माता की पूजा भारतीय परंपराओं में एक महत्वपूर्ण धार्मिक अभिष्ट है। यहां मैं आपको संतोषी माता की पूजा करने के एक सामान्य तरीके बता रहा हूँ, लेकिन याद रहे कि पूजा के दौरान आपको श्रद्धा और आदर के साथ काम करना चाहिए:

सामग्री:

1. संतोषी माता की मूर्ति या छवि
2. दीपक और घी
3. अगरबत्ती और धूप
4. पंचामृत (दूध, दही, घी, मधु और शहद का मिश्रण)
5. फूल, माला, चादर, रैंगोली का पाउडर
6. पूजा की थाली
7. पूजा का वस्त्र
8. पूजा के लिए साफ पानी

पूजा की विधि:

1. पूजा का विशेष दिन व वक्त तय करें, जैसे कि शुक्रवार के दिन या माँगलवार के दिन।
2. पूजा के लिए पावन स्थान चुनें जहाँ आप नियमित रूप से पूजा कर सकते हैं।
3. पूजा की थाली पर संतोषी माता की मूर्ति या छवि रखें।
4. उपचार देने के लिए पंचामृत की थाली तैयार करें और उसे देवी की मूर्ति पर छिड़कें।
5. दीपक को घी से जलाकर देवी की ओर मुख की ओर रखें और उसे दीपावली दीपक की तरह जलाएं।
6. अगरबत्ती और धूप जलाएं ताकि पूजा के दौरान आत्मा को शुद्धि मिले।
7. माला के साथ मंत्र जप करें जैसे कि "ॐ संतोष्यै नमः" या अन्य संतोषी माता के मंत्र।
8. पूजा के बाद फूल, चादर और रंगोली का पाउडर प्रदान करें।
9. आप चाहें तो व्रत के दौरान विशेष भोग भी चढ़ा सकते हैं, जैसे कि मीठे और फल।
याद रहे कि पूजा के दौरान आपको मानसिक शांति, श्रद्धा और विश्वास के साथ काम करना चाहिए। पूजा के समय आप अपने आत्मा को देवी के प्रति अर्पित करें और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करें।

**संतोषी माता की आरती की सामग्री:**

संतोषी माता की आरती उन्हें समर्पित करने का एक प्रसिद्ध और श्रद्धान्वित तरीका है। यहां मैं आपको संतोषी माता की आरती के लिए एक सामान्य प्रक्रिया बता रहा हूँ:संतोषी माता की आरती की सामग्री:
1. आरती की थाली
2. दीपक और घी
3. अगरबत्ती और धूप
4. आरती की मटकी या कील
5. पूजा के लिए साफ पानी
6. आरती की गायन के लिए आरती पाठ की पुस्तक

**संतोषी माता की आरती की विधि:**

1. पूजा की थाली पर संतोषी माता की मूर्ति या छवि रखें।
2. दीपक को घी से जलाकर थाली में रखें और उसे दीपावली दीपक की तरह जलाएं।
3. अगरबत्ती और धूप जलाएं ताकि पूजा के दौरान आत्मा को शुद्धि मिले।
4. आरती की मटकी या कील को थाली में रखें।
5. आरती पाठ की पुस्तक से आरती के श्लोकों का पाठ करें। यहां कुछ आम आरती के श्लोक दिए जा रहे हैं, जिन्हें आप आरती के दौरान पढ़ सकते हैं:
   जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता।
   अपने सेवक जन की, सुख सम्पत्ति दाता।।
   चाँदन मृगमद सोहे, मोती हार बलि।
   सोहे राजत में राजत, कोटि रतन जड़ित माली।।
   शुभ गुन मंगल करनी, जय जय संतोषी।
   सुर वर मुनिमनच्छत्र गृह भी तुमको पुकारतो।।
   शरण गहे की लाज रक्षक, तुम रक्षक काहू को डारो।
   अपने बिना श्री नाथजी, सब सुख शान्ति नहीं पारो।।
6. आरती पाठ के बाद, आरती की मटकी या कील को धूप और अगरबत्ती के साथ परिपूर्ण ग्रहण करें और उसे माता की मूर्ति के सामने घुमाएं।
7. आरती के दौरान आप आरती के श्लोकों को गाने के लिए भी एक विशेष व्यक्ति को आमंत्रित कर सकते हैं।
8. आरती के पश्चात्, प्रसाद को माता के चरणों में अर्पित करें और फिर उसे खायें।
यहां दिए गए तरीके के अनुसार, आप संतोषी माता की आरती को कर सकते हैं। याद रहे कि आपको श्रद्धा और विश्वास के साथ पूजा करनी चाहिए।

संतोषी माता की पूजा करने के कुछ मुख्य लाभ:

संतोषी माता की पूजा करने के बहुत सारे आध्यात्मिक और आर्थिक लाभ हो सकते हैं। निम्नलिखित हैं कुछ मुख्य लाभ:
1. **आर्थिक संवृद्धि:** संतोषी माता की पूजा और उपासना से आर्थिक संवृद्धि और व्यापार में वृद्धि हो सकती है। उनकी कृपा से व्यापार में सफलता मिल सकती है और आर्थिक समस्याओं का समाधान हो सकता है।
2. **समृद्धि और सुख:** संतोषी माता की पूजा करने से सुख और समृद्धि में वृद्धि हो सकती है। उनकी कृपा से घर में शांति और प्रसन्नता आ सकती है।
3. **आरोग्य:** संतोषी माता की पूजा से आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हो सकती है। उनकी आशीर्वाद से आपके जीवन में आरोग्य बना रह सकता है।
4. **विवाह और परिवार में सुख:** संतोषी माता की पूजा से विवाह में सुख, परिवार में आनंद, और संतानों की कल्याण की प्राप्ति हो सकती है।
5. **भक्ति और आत्मा की शांति:** संतोषी माता की पूजा से आपकी आत्मा में शांति और आशीर्वाद की भावना बढ़ सकती है। आपका भक्ति मार्ग प्रशन्नता से प्रगति कर सकता है।
6. **अध्यात्मिक उन्नति:** संतोषी माता की पूजा से आपकी आध्यात्मिक उन्नति हो सकती है। आपका मानसिक और आत्मिक विकास हो सकता है, और आप उच्चतम मानवीय मूल्यों की ओर प्रगति कर सकते हैं।
7. **कष्टों का निवारण:** संतोषी माता की पूजा करने से आपके जीवन में आने वाले कष्टों का निवारण हो सकता है। उनकी कृपा से आपका मार्ग सुलझ सकता है और समस्याओं का समाधान हो सकता है।
8. **आत्मविश्वास और सकारात्मकता:** संतोषी माता की पूजा से आपका आत्मविश्वास बढ़ सकता है और आपकी सोच में सकारात्मकता आ सकती है। आप अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए संवर्गीय शक्तियों का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।
ये केवल कुछ लाभ हैं जो संतोषी माता की पूजा से हासिल किए जा सकते हैं। पूजा के दौरान आपकी भक्ति, निष्ठा और आदर के साथ की गई जाती है, जिससे आपकी आशीर्वाद में अधिक शक्ति होती है।

Comments