जानिए राम नवमी क्यों मनाया जाता का महत्व - प्रमुख दिवस

जानिए राम नवमी क्यों  मनाया जाता का महत्व - प्रमुख दिवस Know the importance of why Ram Navami is celebrated - Important days

राम नवमी हिंदू धर्म में भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है और इसे भारतीय कैलेंडर के अनुसार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को आचरण किया जाता है। इस त्योहार का महत्व भगवान राम के जीवन और मूल्यों को स्मरण करने में है, जो धार्मिक और आदर्श पुरुष के रूप में माने जाते हैं।
राम नवमी का महत्व प्रमुख रूप से इन कारणों पर आधारित होता है:
  1. भगवान राम के जन्मदिन की खुशी: राम नवमी पर भगवान राम का जन्मदिन मनाया जाता है, जिससे भक्तों को भगवान के जन्म की खुशी और उनके आदर्शों का स्मरण करने का अवसर मिलता है।
  2. धार्मिक महत्त्व: रामायण महाकाव्य में भगवान राम के जीवन की कहानी है, जिसमें उनके मानवता, धर्म, और न्याय के मूल्यों का उल्लेख होता है। राम नवमी इस महाकाव्य के महत्त्वपूर्ण पात्र भगवान राम के जन्मदिन के रूप में माना जाता है और लोग उनके आदर्शों का अनुसरण करते हैं।
  3. समाजिक एवं सांस्कृतिक महत्व: राम नवमी के दिन, भक्त भगवान राम की पूजा, अर्चना, और रामलीला का आयोजन करते हैं। इससे समाज में एकता, धर्मिकता, और अच्छाई की भावना बढ़ती है।
राम नवमी को प्रमुख दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि यह एक ऐसा अवसर है जो भगवान राम के जन्म और उनके जीवन के महत्त्वपूर्ण पहलुओं को याद करने का मौका देता है, जो मानवता के लिए आदर्श माने जाते हैं।

पांच अति दुर्लभ योग राम नवमी के दिन 

राम नवमी के दिन मान्यता है कि पांच अति दुर्लभ योग होते हैं, जिन्हें 'पंच दुर्लभ योग' भी कहा जाता है। ये पांच योग होते हैं:
  1. अमलकी योग: इस योग में, सूर्य और चंद्रमा दोनों आस्त होते हैं। इस योग का माना गया है कि यह बहुत ही शुभ होता है और किसी भी कार्य के लिए अनुकूल माना जाता है।
  2. व्यतिपात योग: इस योग में, सूर्य और चंद्रमा दोनों पूर्व या पश्चिम दिशा में होते हैं। इसे भी शुभ माना जाता है और यात्रा, शादी या नए कार्यों के लिए उत्तम माना जाता है।
  3. केशव योग: इस योग में, चंद्रमा और शुक्र ग्रह दोनों एक ही राशि में होते हैं। यह भी शुभ माना जाता है और नये कार्यों के लिए अनुकूल होता है।
  4. ब्रह्म योग: इस योग में, सूर्य, चंद्रमा, और बृहस्पति ग्रह तीनों एक ही राशि में होते हैं। यह भी शुभ माना जाता है और नए शुभ कार्यों के लिए अनुकूल होता है।
  5. इन्द्र योग: इस योग में, सूर्य, चंद्रमा, और मंगल ग्रह तीनों एक ही राशि में होते हैं। यह भी शुभ माना जाता है और किसी भी शुभ कार्य के लिए अनुकूल होता है।
ये योग व्यक्तिगत और पारंपरिक मान्यताओं पर आधारित होते हैं और इन्हें ज्योतिष और वैदिक ग्रंथों में उल्लेख किया गया है।

 रामनवमी हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार

रामनवमी हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान राम के जन्म के अवसर पर मनाया जाता है। भगवान राम हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक हैं और उन्होंने अपने जीवन के दौरान अधर्म का समापन किया और धर्म की रक्षा की।
रामनवमी का महत्त्व रामायण महाकाव्य से जुड़ा है, जो महाकाव्य वाल्मीकि जी के द्वारा लिखा गया था। रामायण में वर्णित है कि भगवान राम चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को अयोध्या में राजा दशरथ के पुत्र के रूप में जन्मे थे।
राम का जन्म भगवान विष्णु के एक अवतार के रूप में माना जाता है। उन्होंने अधर्मियों और राक्षसों का संहार किया और धर्म की रक्षा के लिए युद्ध किया।
रामायण में भगवान राम की कई कथाएं हैं, जैसे कि उनकी वनवास, सीता हरण, रावण संहार, और लंका दहन। रामनवमी पर, भक्त भगवान राम की पूजा, कीर्तन, और विशेष धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं। यह त्योहार भारतीय सभ्यता में महत्वपूर्ण स्थान रखता है और लोग इसे धार्मिक और सामाजिक उत्सव के रूप में मनाते हैं।

रामनवमी और महानवमी

रामनवमी और महानवमी दोनों ही हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण त्योहार हैं, लेकिन इन दोनों के बीच में थोड़ा अंतर है।
  1. - रामनवमी: यह त्योहार भगवान राम के जन्म के अवसर पर मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम का जन्मोत्सव मनाया जाता है, जो हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। भगवान राम के जन्म की कथा, भजन, पूजा, और धार्मिक अध्ययन इस दिन किया जाता है।
  2. - महानवमी: यह त्योहार नवरात्रि के आखिरी दिन का दिन होता है, जो देवी दुर्गा के नौ रूपों में से आठवां रूप माँ महागौरी की पूजा के अवसर पर मनाया जाता है। यह दिन भगवान राम के जन्म के बाद की नवरात्रि के महत्वपूर्ण दिनों में से एक होता है।
इस तरह, रामनवमी भगवान राम के जन्म के अवसर को ध्यान में रखता है, जबकि महानवमी नवरात्रि के उत्तरार्ध में देवी दुर्गा की पूजा के अवसर को याद करता है।

Comments