सरस्वती का प्राकट्य ,उमा की उत्पत्ति ,शताक्षी अवतार वर्णन ,Appearance of Saraswati, origin of Uma, description of Shatakshi incarnation.

सरस्वती का प्राकट्य ,उमा की उत्पत्ति ,शताक्षी अवतार वर्णन

सरस्वती का प्राकट्य

राजा ने कहा- चण्ड-मुण्ड और रक्तबीज के मर जाने पर शुंभ-निशुंभ ने क्या किया? ऋषि बोले-जब शुंभ-निशुंभ को पता चला कि चण्ड-मुण्ड और रक्तबीज को देवी ने मार दिया है तब वे स्वयं अस्त्र-शस्त्र से सुसज्जित होकर युद्ध भूमि की ओर चल दिए। जब देवी कौशिकी ने देखा कि शुंभ और निशुंभ अपनी सेना के साथ युद्ध करने आ रहे हैं तो उन्होंने घण्टा बजा दिया। इस ध्वनि को सुनकर देवी का सिंह गर्जना करने लगा। देवी ने भी धनुष हाथों में लेकर बाणों की वर्षा आरंभ कर दी। जब शुंभ और निशुंभ ने देवी कौशिकी के अदभुत रूप-सौंदर्य को देखा तब देवी को देखकर वे बोले-हे सुंदरी ! आप इस कोमल शरीर के साथ युद्ध करेंगी? उनकी बात सुनकर देवी ने अत्यंत क्रोधित होकर बाण, त्रिशूल एवं परशु से एक साथ उन पर आक्रमण आरंभ कर दिया। देखते ही देखते युद्ध क्षेत्र में रक्त की नदियां बह निकलीं। दैत्य सेना देवी के प्रहारों के सम्मुख फीकी पड़ने लगी। दैत्य इधर-उधर भागने लगे। अपनी विशाल सेना को इस प्रकार भयभीत होकर इधर-उधर भागते हुए देखकर निशुंभ देवी के सम्मुख जाकर बोला - देवी ! यदि युद्ध करना ही है तो मुझसे करो। बेचारे सिपाहियों को क्यों मार रही हो? यह कहकर निशुंभ ने देवी पर बाण वर्षा शुरू कर दी। देवी ने भी उत्तर में बाण वर्षा आरंभ कर दी। उन्होंने अपने बाणों से निशुंभ के सभी अस्त-शस्त्र काट दिए । तब उन्होंने विष बुझे बाणों से निशुंभ को मार गिराया। अपने भाई निशुंभ को इस प्रकार देवी के हाथों मरते देखकर शुंभ स्वयं देवी से युद्ध करने आगे आया। उसे सामने देखकर चण्डिका देवी ने भयानक अट्टहास किया जिसे सुनकर दैत्य सेना भयभीत हो गई। तब शुंभ ने प्रज्वलित शक्ति से देवी पर आक्रमण किया। देवी ने अपने बाणों से उसके टुकड़े-टुकड़े कर दिए और हाथ में त्रिशूल लेकर उसे शुंभ की छाती में घोंप दिया। तत्पश्चात घायल शुंभ देवी को मारने के लिए दौड़ा परंतु देवी ने चक्र से उसका सिर काट दिया। यह देखकर अन्य दैत्य पाताल लोक को चले गए।
शिव पुराण श्रीउमा संहिता अड़तालीसवां अध्याय

उमा की उत्पत्ति

ऋषियों ने पूछा- हे सूत जी ! अब आप हमसे देवी उमा के अवतार एवं प्रादुर्भाव की कथा का वर्णन कीजिए। तब ऋषियों के प्रश्न का उत्तर देते हुए सूत जी बोले - एक बार की बात हैं, देवताओं की युद्ध में विजय हुई। विजयी होकर देवताओं को बहुत घमंड हो गया और वे अपनी बहादुरी की बहुत प्रशंसा करने लगे। तभी एक कूप के रूप में तेज प्रकट हो गया। उस तेज को एकाएक देखकर देवता घबरा गए। देवराज इंद्र ने उस तेज की परीक्षा लेने के लिए सर्वप्रथम वायुदेव को वहां भेजा। वायुदेव उस तेज की परीक्षा लेने के लिए वहां पहुंचे। उन्होंने तेज के पास जाकर पूछा- तू कौन है? तब तेज ने भी यही प्रश्न वायु से किया। वायुदेव ने अहंकार से कहा- मैं इस जगत का प्राण हूं। मेरे द्वारा ही यह जगत चल रहा है। यह सुनकर तेज ने कहा कि इस तिनके को जलाकर दिखाओ तो मैं तुम्हें शक्तिशाली समझ सकता हूं परंतु वायुदेव अपनी सारी ताकत लगाकर भी उस तिनके को हिला भी नहीं सके। तब लज्जित और हारे हुए वे देवराज इंद्र के पास पहुंचे। देवराज इंद्र को जब यह सब बातें ज्ञात हुईं तो उन्होंने एक-एक करके सब देवताओं को उस तेज की परीक्षा लेने के लिए भेजा, लेकिन सभी देवता परास्त होकर वापस आ गए। तब स्वयं इंद्र उस दिव्य तेज की परीक्षा लेने के लिए गए। जैसे ही इंद्र उस स्थान पर पहुंचे वह तेज अंतर्धान हो गया। यह देखकर देवेंद्र आश्चर्यचकित रह गए। तब उस तेज को दिव्य और शक्तिशाली जानकर मन ही मन इंद्र उनकी स्तुति करने लगे। वे बोले-मैं आपकी शरण में आया हूं। कृपा कर मुझे दर्शन दो। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी के मध्यान्ह का समय । देवी उमा ने प्रकट होकर देवराज इंद्र को दर्शन दिए। वे बोलीं- हे देवराज इंद्र! ब्रह्मा, विष्णु और शिव भी मेरी स्तुति करते हैं। अन्य देवता भी मुझे पूजते हैं। मैं परमब्रह्म प्रणव स्वरूप देवी हूं। मेरी ही कृपा से तुम्हें विजयश्री प्राप्त हुई है। इसलिए अपने अभिमान और घमंड को त्यागकर मेरा स्मरण करो । यह कहकर देवी शांत हो गईं। यह सुनकर देवताओं ने देवी उमा की स्तुति करनी आरंभ कर दी। देवता बोले- हे महामाया! हे जगदंबा ! आप हमें क्षमा करें। हम दोनों हाथ जोड़कर आपकी शरण में आए हैं। हमसे जो गलती हो गई है उसे भूलकर हम पर अपनी कृपादृष्टि रखें। यह कहकर देवता देवी मां की स्तुति करने लगे। 
शिव पुराण श्रीउमा संहिता उनचासवां अध्याय

शताक्षी अवतार वर्णन

सूत जी बोले - ऋषिगण ! एक बार की बात है, एक महा पराक्रमी रुद्र के पुत्र दुर्गम ने ब्रह्माजी की कठोर तपस्या की। उसने ब्रह्माजी से वरदान में वेद प्राप्त कर लिए। वह अपने को महाशक्तिशाली समझने लगा और वह देवताओं को कष्ट देने लगा। उसने पृथ्वी पर उपद्रव करने प्रारंभ कर दिए। वेदों के न रहने पर सारी क्रियाएं चली गईं। ब्राह्मणों ने धर्म का त्याग कर दिया। प्रजा पर यह संकट आया हुआ देखकर सभी देवता देवी उमा की शरण में गए। देवता स्तुति करते हुए बोले- हे महादुर्गे ! हे जगदंबिके ! जिस प्रकार आपने शुंभ-निशुंभ का वध करके हमारी रक्षा की, उसी प्रकार इस दुष्ट का भी वध करके अपने शरणागतों की रक्षा करो। इस प्रकार देवताओं की स्तुति सुनकर देवी की आंखों से आंसू बहे, तब उस जल की धाराओं से धरती पुनः हरी-भरी हो गई। वृक्ष और औषधियां फलने-फूलने लगीं। नदियां, तालाब और समुद्र जल से सराबोर हो गए। यह देखकर देवता देवी उमा से बोले - हे मातेश्वरी! कृपा कर वेदों को भी वापस दिला दीजिए। तब देवी ने वेद लौटाने का आश्वासन देकर उन्हें विदा किया। देवता अपने-अपने धाम को चले गए। तभी देवी को देवताओं का हित करने वाली जानकर दुर्गम ने उन पर आक्रमण कर दिया। देवी ने भी पलटकर वार करना आरंभ कर दिया। देखते ही देखते देवी उमा और दुर्गम के बीच भयानक युद्ध होने लगा। चारों ओर से बाणों की वर्षा होने लगी। उस समय देवी उमा बहुत क्रोधित हुई। तब उनके शरीर से काली, तारा, छिन्नमस्ता, श्रीविद्या, भुवनेश्वरी, रौरवी, बगुला, थम्रा, त्रिपुरा, मातंगी नामक दस देवियां प्रकट हुईं। देखते ही देखते देवियों ने दैत्यों की सौ अक्षौहिणी सेना का नाश कर उसे तितर-बितर कर दिया। तत्पश्चात देवी ने अपने त्रिशूल से दैत्येंद्र दुर्गम का वध कर दिया। देवी ने उससे वेद छीनकर देवताओं को सौंप दिए। प्रसन्न देवता महामाया देवी उमा की स्तुति करने लगे। देवता बोले- हे मातेश्वरी ! आपने हमारी रक्षा के लिए अनंताक्षिभय रूप रखा, इसलिए आप शताक्षी नाम से जगप्रसिद्ध होंगी। शोक द्वारा लोकहित करने के कारण शाकुंभरी और दुर्गम नामक दैत्य का वध करने के कारण दुर्गा कहलाएंगी। हे महाबले! हे ज्ञानदायिनी ! हे योगनिद्रे ! हे विश्वजननी! हम आपको नमस्कार करते हैं। आप सदा हमारा कल्याण करें और सबकी रक्षा करें। तब देवताओं को उनकी रक्षा का आश्वासन देकर देवी अंतर्धान हो गई।
शिव पुराण श्रीउमा संहिता पचासवां अध्याय

क्रिया योग वर्णन

एक बार महामुनि व्यास के पूछने पर सनत्कुमार जी ने उन्हें महा दिव्य क्रिया योग और उसके फल के विषय में बताया। सनत्कुमार जी बोले- हे महामुनि ! ज्ञानयोग, क्रियायोग और भक्तियोग भक्ति और मुक्ति प्रदान करने वाले हैं। ज्ञान, आत्मा और हृदय का मिलन ही क्रियायोग कहलाता है। इसी योग के साथ वाह्य अर्थ का संयोग क्रिया योग कहलाता है। कर्म भक्ति, भक्ति से ज्ञान एवं ज्ञान से मुक्ति प्राप्त होती है। योग ही मुक्ति का एकमात्र मार्ग है। पत्थर, लकड़ी एवं मृत्तिका से देवी का मंदिर बनवाने, प्रतिदिन यज्ञ करने से एक-सा पुण्य प्राप्त होता है। इस लोक में श्री पार्वती जी की मूर्ति का निर्माण कराने वाला निश्चय ही दुर्गालोक को जाता है। देवी का मंदिर बनवाने से पुण्य की प्राप्ति होती है। देवी की मूर्ति की स्थापना कर उसके चारों ओर पंचाहना देवी की स्थापना करने से असंख्य पुण्य की प्राप्ति होती है। सूर्य और चंद्र ग्रहण के समय विष्णु सहस्रनाम के पाठ से कई गुना अधिक फल देवाधिदेव शिवजी का नाम जपने से मिलता है। देवी का नाम जपने से उससे भी अधिक पुण्य मिलता है। नित्यप्रति देवी उमा का नाम जपने से दुर्गा जी के गण पद की प्राप्ति होती है। जो मनुष्य मां उमा का धूप, दीप, नैवेद्य से पूजन करते हैं, मंदिर को लीपते हैं या उसे साफ करते हैं, उन्हें उमालोक की प्राप्ति होती है। कृष्ण पक्ष की अष्टमी, नवमी तिथि को श्रीसूक्त, देवी सूक्त आदि का पाठ कर देवी पर पुष्प अर्पित किए जाते हैं। देवी को कमल का पुष्प या सोना, चांदी अर्पित करने से परम गति की प्राप्ति होती है। चैत्र शक्ला-ततीया को मां उमा का व्रत करने से जीवन-मरण के चक्र के बंधनों से मुक्ति मिल जाती है। वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि को अक्षय तृतीया नाम से जाना जाता है और इस दिन रथोत्सव मनाना चाहिए। देवी की मूर्ति स्थापित करके देवी का पूजन करने के पश्चात उनसे प्रार्थना करें - हे देवी! आप हमारा पालन करने वाली हैं। हम पर प्रसन्न हों और हमारे पूजन को स्वीकार करें। हमें इस लोक में सुख देकर अपना धाम प्रदान करें। आश्विन माह के शुक्ल पक्ष में नवरात्र का व्रत किया जाता है। यह उत्तम व्रत सभी कामनाओं को पूर्ण करने वाला तथा मनोरथ सिद्ध करने वाला है। इसी पुण्य कल्याणकारी व्रत को करने से विरथ के पुत्र सुरथ राजा बने, समाधि नामक वैश्य को मुक्ति प्राप्त हुई। इसी प्रकार विधि-विधान से नवरात्र व्रत को पूरा करने से सभी अभीष्ट फलों की प्राप्ति होती है। इस व्रत को करने से देवी उमा स्त्रियों के सौभाग्य की रक्षा करती हैं तथा इस व्रत के प्रभाव से विद्या, धन, पुत्र आदि की प्राप्ति होती हैं। इस प्रकार उमा संहिता का पवित्र भक्तिमय स्वरूप मैंने आपको सुनाया है। इसे पढ़ने एवं सुनने से कामनाएं पूरी होती हैं और सब सुख भोगकर मनुष्य परमधाम को प्राप्त करता है।
शिव पुराण श्रीउमा संहिता इक्यानवां अध्याय
॥ श्रीउमा संहिता संपूर्ण ॥
॥ ॐ नमः शिवाय ॥

Comments