Shri Ram Shayari रघुकुल रीति सदा चलि आई, प्राण जाए पर वचन न जाई,Raghukul's tradition always followed, life may die but the promise should not

श्री राम शायरी और स्टेटस 

राम जिनका नाम हैं,
अयोध्या जिनका धाम हैं,
ऐसे रघु नन्दन को हमारा प्रणाम हैं.
Jay Shri Ram Shayari

वो बड़े ही किस्मत वाले है,
जिनके श्री राम रखवाले है.
।। बोलो जय श्री राम ।।

मैं झुक नही सकता, मैं शौर्य का अखँड भाग हूँ,
जला दे जो अधर्म की रुह को, मैं वही श्री राम का दास हूँ।
।। बोलो जय श्री राम ।।

ध्यान धरे शिवजी मन माहीं,
ब्रम्हा इंद्र पार नहिं पाहीं,
जय जय जय रघुनाथ कृपाला,
सदा करो सन्तन प्रतिपाला.
।। बोलो जय श्री राम ।।

जब सुकून नही मिलता दिखावे की बस्ती में,
तब खो जाता हूँ मैं श्री राम की मस्ती में।
Jai Shri Ram Shayari

देख तज के पाप रावण,
राम तेरे मन में हैं, राम मेरे मन में है,
मन से रावण जो निकाले,
राम उसके मन में है।
।। बोलो जय श्री राम ।।

गंगा बड़ी गोदावरी
तीरथ बड़ा प्रयाग
सबसे बड़ी नगरी अयोध्या
जहां प्रगति श्री राम।
।। बोलो जय श्री राम ।।

उपलब्धि चाहे छोटी हो या बड़ी
सब विधाता के हाथ है
इसलिए घमंड नहीं प्रेम करो।
।। बोलो जय श्री राम ।।

श्रीराम के दरबार में दुनिया बदल जाती है,
रहमत से हाथ की लकीर बदल जाती है,
लेता है जो भी दिल से श्रीराम का नाम,
एक पल में उसकी तकदीर बदल जाती है..
।। बोलो जय श्री राम ।।

हमारी ताकत का अंदाजा हमारे जोर से नही,
दुश्मन के शोर से पता चलता है,
बोलो सिया पति राम चंद्र की जय..
।। बोलो जय श्री राम ।।

“कतरा कतरा”
कतरा कतरा चाहे बह जाये लहू बदन का,
कर्ज उतर दूंगा ये वादा आज मैं कर आया!!
हँसते-हँसते खेल जाऊंगा प्राण रणभूमि में,
ये केसरिया वस्त्र मैं आज धारण कर आया..
।। बोलो जय श्री राम ।।

कोई अपने आप को बादशाह,
समझता है तो कोई एक्का,
अरे जाके बोलदो उस बादशाह और एक्के से,
रामभक्त की एंट्री हो गई है,
।। बोलो जय श्री राम ।।

दशहत बनाओ तो शेर जैसी वरना
खाली डराना तो कुत्ते भी जानते है
कट्टर हिन्दु हो तो खूंखार होना चाहिये !!
।। बोलो जय श्री राम ।।

अनपढ़ लोगो की वजह से ही हमारी मातृभाषा बची हुई हैं साहब,
वरना पढ़े हुए कुछ लोग तो राम राम बोलने में भी शरमाते हैं.
।। बोलो जय श्री राम ।।

ज़िन्दगी का क्या हैं, हर पल सताएगी,
राम भक्तों का चुनौतियां कुछ ना कर पाएंगी
।। बोलो जय श्री राम ।।

राम जी की ज्योति से नूर मील है,
सबके दिलों को शूरुर मिलता है,
जो भी जाम है राम जी के द्वार,
कुछ ना कुछ जरुर मिल गया है…
।। बोलो जय श्री राम ।।

श्री राम का वंसज हूँ गीता ही मेरी गाथा है
छाती ठोक के कहता हूँ भारत ही मेरी माता है
।। बोलो जय श्री राम ।।

चिंगारियों को हवा देकर,
हम दामन नहीं जलाते
हमारे मजबूत इरादे ही,
जिहादियों में आग लगा देते हैं
।। बोलो जय श्री राम ।।

Comments