होली राधा-कृष्ण स्पेशल शायरी हिंदी में,Holi Radha-Krishna Special Shayari in Hindi

होली राधा-कृष्ण स्पेशल शायरी हिंदी में

जय श्री राधे कृष्णा
राधा का रंग और कान्हा की पिचकारी ,
प्यार के रंग से रंग दो दुनिया सारी ,
ये रंग न जाने कोई जात न कोई बोली
मुबारक हो आपको रंग भरी होली !!
होली की शुभकामनाएं

राधा-कृष्ण और गोपियां

हाल न पूछो मोहन का
सब कुछ राधे राधे है
_______________________

यह कथा भगवान कृष्ण और उनकी प्रेमिका राधा और गोपियों से जुड़ी हुई है। मान्यताओं के अनुसार भगवान कृष्ण गोपियों के साथ रंगों से खेलते थे। यह घटना प्रेम और खुशी का प्रतीक माना जाता है।
हर कोई कृष्णा और राधा के प्रेम के बारे में जानता है और इनकी प्रेम कहानी हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण भाग है. यह कहानी ब्रज क्षेत्र में घटी और भगवान कृष्ण के बाल्यकाल से जुड़ी हुई है. यह कहानी रासलीला के माध्यम से भी प्रस्तुत होती है, जहां कृष्ण और राधा के प्रेम की विशेषता और उनके विचारों को दर्शाया जाता है कृष्ण की लीलाएं और मनोहारी व्यक्तित्व ने राधा को उनसे और भी अधिक मोहित कर दिया. राधा कृष्ण के प्रेम में पूर्ण समरसता थी. वे आपस में पूर्ण एकत्रित हो जाते और अपने प्रेम की मधुरता को व्यक्त करते थे. राधा के प्रेम और समर्पण के माध्यम से कृष्ण के आंतरिक गुणों और दिव्यता का अनुभव होता था.

यहाँ भी पढ़े क्लिक कर के-
होली राधा-कृष्ण स्पेशल शायरी हिंदी में

Holi Radha-Krishna Special Shayari in Hindi

______________________

मथुरा की खुशबु, गोकुल का हार
वृंदावन की सुगंध, बरसाने की फुहार
राधा की उम्मीद, कान्हा का प्यार
मुबारक हो आपको होली का त्यौहार
होली की हार्दिक शुभकामनाएं
_______________________

मथुरा की खुशबू
गोकल का हार
वृन्दावन की सुगंध
बरसाने का प्यार
मुबारक हो आपको होली का त्यौहार
_______________________

मुरली छूटी शंख बजा रास तजा फिर युद्ध सजा
क्या पीछे क्या आगे है सब कुछ राधे राधे है
_______________________

यहाँ भी पढ़े क्लिक कर के-
_______________________
फागुन का महीने में रंगों की बहार हो,
गुलाल की महक पर राधा-कृष्ण के 
प्रेम की बौछार हो.
_______________________

आगे आगे राधा मोहन 
पीछे सबकी टोली !
इंद्रधनुष के, प्रीत रंगों से..
खेल रहे सब होली ! 
_______________________

प्यार में कितनी बाधा है
लेकिन राधा, राधा है
_______________________

प्यार में कैसी थकन कह के ये घर से निकली
कृष्ण की खोज में वृषभानु-लली मीलों तक
_______________________

वो राधा की तरह है साथ मेरे
ख़यालों में वो मेरी रुक्मणी है
_______________________

दीवार-ओ-दर पे 'कृष्णा' की लीला के नक़्श है
मंदिर है ये तो 'कृष्ण' के दरबार की तरह
_______________________

प्रेम की भाषा बड़ी आसान होती है,
राधा-कृष्ण की प्रेम कहानी ये पैगाम देती है.
_______________________

राधा के सच्चे प्रेम का यह ईनाम हैं,
कान्हा से पहले लोग लेते राधा का नाम है.
_______________________

पूर्ण है श्रीकृष्ण परिपूर्ण है श्रीराधे,
आदि है श्रीकृष्ण अनंत है श्रीराधे.
_______________________

प्यार मे कितनी बाधा देखी,
फिर भी कृष्ण के साथ राधा देखी.
_______________________

यहाँ भी पढ़े क्लिक कर के-

Comments