हारे का सहारा, खाटू श्याम हमारा। शायरी सन्देश ! Khatu Shyam Ji Shayari in Hindi

हारे का सहारा, खाटू श्याम हमारा। शायरी सन्देश ! Khatu Shyam Ji Shayari in Hindi

वो शरीर ही किस काम का, जो नाम ना ले श्याम का।

______________________________

चन्दन हैं खाटू की माटी, 
अमृत यहाँ का नीर,
ये दोनों जिसको मिल जाए, 
बहुत बड़ी तकदीर।

हारे का सहारा, खाटू श्याम हमारा। शायरी सन्देश ! Khatu Shyam Ji Shayari in Hindi
______________________________

कहते है लोग अक्सर मुझे 
कि बावला हूँ मैं उनको क्या
पता कि अपने श्याम का लाड़ला हूँ मैं।
______________________________

दिल का क्या है तेरी 
यादों के सहारे भी जी लेगा। 
हैरान तो आंखे हैं जो तड़पती हैं 
तेरे दीदार को।
______________________________

कोई नहीं है मेरी फिक्र करने वाला, 
फिर भी बेफिक्र रहता हूँ।
बस एक है मेरे ऊपर जान छिडकने वाला, 
जिसे मैं श्याम कहता हूँ।।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

झूठे विश्वास, विचार, 
दुख आदि का त्याग कर 
एक बार बाबा के दरबार आ जाओ,
तुम्हारे सब कार्य स्वयं पूर्ण हो जाएंगे।
______________________________

जो भी इससे प्रेम करे ये झट उसका हो जाता है।
ना जाने फिर उसके खातिर क्या से क्या कर जाता है। 
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

तेरी शरण में आने के बाद परेशानियों ने 
भी रास्ता बदल लिया, कहा जिसके सर
पर हो साँवरे का हाथ उसका कोई क्या बागाड़ेगा।
______________________________

मत रख इतनी नफरतें अपने दिल में ऐ इंसान
जिस दिल में नफरत होती है, 
उस दिल में मेरा श्याम नहीं बसता।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

कितनी आंधी आई कितने तूफान 
आये लेकिन मेरा कुछ ना बिगाड़ पाये।
 उन्हें क्या पता हारे का सहारा 
बाबा श्याम मेरा हर पल साथ निभाये।
______________________________

तुम्हें दिल में रखेंगे, अपनी पलकों में छुपा लेंगे,
तुम्हें खुशबू समझ कर अपनी सांसों में बसा लेंगे,
मोहब्बत की कसम तकदीर का मुख मोड़ देंगे, हम
अगर तुम मिल जाओ मेरे सांवरे, जमाना छोड़ देंगे हम।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

रूठी थी किस्मत मेरी भी, 
अब मेहरबान हो गयी। 
“श्याम” के नाम से ही 
अब मेरी पहचान हो गयी।
______________________________

सागर की गहराइयों से भी गहरा मैं जा पहुंचा
उससे भी गहरा मुझे मेरे श्याम का प्यार नजर आया
चारो तरफ से धोखा खाया मैंने...
आंख बंद करके देखा तो बाबाश्याम नजर आया।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

मुझे ना स्वर्ग चाहिए ना धन-दौलत, 
मुझे बाबा सिर्फ आपका साथ चाहिए।
______________________________

श्याम तेरी चौखट पर सारी दुनिया का आना-जाना है।
कलियुग में हर भक्तों का बस यही तो एक ठिकाना है। 
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

कठिन राह भी सरल हो जायेगी, 
मुश्किलें सारी हल हो जायेगी एक बार आजा तू शरण श्याम के, 
जिन्दगी तेरी सफल हो जायेगी. 
जय श्री श्याम।
______________________________

बड़े से बड़ा खतरा टल जाता है।
गमो का शोला जल जाता है जब
 बाबा श्याम का आशीर्वाद साथ हो तो
मौत का भी रास्ता बदल जाता है
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

मेरी तकदीर के मालिक, 
मेरी तकदीर तो तुम हो, 
जो उभरी हैं सितारो पे,
मेरी तस्वीर तुम हो।
यह दौलत, यह शोहरत, 
सफर श्मशान तक का हैं, 
जो आखिर साथ जाना हैं, 
असल जागीर तो मेरे श्याम तुम हो।
______________________________

तेरी मस्तानी अदा से, श्याम घायल हुये हम
तेरी तिरछी नजरो से, श्याम घायल हुये हम
दिल की भावनाऐं कागज पे लिखकर शायद
तेरे लिये ही श्याम शायर भी हुये हम ।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

मुलाकात हुई थी श्याम से बरसो पहले, 
सुख-दुःख का साथी बन गया था होश संभालने से पहले
मुकद्दर में क्या था ये तो नहीं मालूम, 
मगर दोस्त सही चुना था कुछ सालों पहले।
______________________________

न लगावो मेरी मासूम मोहब्बत पे इल्जाम
तेरा नाम लेने के सिवा कुछ और काम नहीं
अगर चाहो तो ले लो मेरे दिल की तलाशी
तेरी धड़कन के सिवा कोई अहसास नहीं।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

हैं आरजू करूं दीदार श्याम प्यारे का,
नजर से चूम लू, दरबार श्याम प्यारे का,
हमेशा होती हैं इस दर पे बारिशे रहमत की, 
हैं ऐसा जलवा मेरे दिलदार श्याम प्यारे का।।
______________________________

दौलत दे दी शोहरत दे दगी और सुख दे दिये तमाम,
ये सुख भी मुझे दुःख देते हैं, बिन तेरे  बाबा श्याम
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

बेदर्द जमाने ने ठोकर जो लगाई हैं, 
उस दर्द की सांवरिया तेरे पास दवाई हैं,
श्याम प्यार से आकर के दो घूंट पिला जाओ मुझे, 
तेरी जरूरत हैं फुर्सत हैं तो आ जाओ।।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

इश्क में क्या-क्या तेरे नाम लिखूं, 
दिल लिखूं की जान लिखूं।
आंसू चुरा के तेरी प्यारी आंखों से सांवरे, 
अपनी हर खुशी तेरे नाम लिखूं।।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

आंसू कभी आंखों में ये भरने नहीं देता, 
दर्द भी चेहरे पे उभरने नहीं देता,
इस तरह रखता है मेरा सांवरा मुझको, 
की टूट भी जाऊं तो मुझे बिखरने नहीं देता।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

मुझे नाम नहीं चाहिये, बेनाम ही रहने दो।
मुझे तो केवल मेरे श्याम के चरणों का गुलाम ही रहने दो।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

जब से पकड़ा तूने हाथ मेरा, 
ज़िन्दगी खुशहाल हो बन गयी,
दौलत मिली मुझे तेरे नाम की, 
तेरे प्रेमियों के बीच मेरी भी पहचान बन गयी।
______________________________

बड़े-बड़े संकट टल जाते हैं, 
जब साथ हो श्याम हमारा।
हर विपदा पर भारी पड़ता, 
श्री श्याम का एक जयकारा।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

आरज़ू ये नहीं की सोना, चांदी, बांग्ला कार मिल जाए,
हम तो तेरे दीवाने हैं बाबा, तमन्ना हैं की बस तेरा आशीर्वाद मिल जाये।
______________________________

कट रही है जिन्दगी अपनी, 
श्याम सिर्फ तेरे सहारे।
भटकना ना पड़े मुझे बाबा, 
गले लगाले ऐ हारे के सहारे।।
।। जय श्री श्याम।।
______________________________

हारे का सहारा हैं ये, इससे ज्यादा कोई राज नहीं,
जिस के सिर पर हाथ हो इसका, इससे महंगा कोई ताज नहीं।
______________________________

Comments