हनुमान जी का झंडा बनाने के प्रक्रिया:/ Process of making Hanuman ji flag:

हनुमान जी का झंडा बनाने के प्रक्रिया:

सामग्री:
1. नारंगी रंग का पट्टा या सफेद रंग का पट्टा (चारों ओर सिलाई के लिए)
2. लाल रंग का रेशमी धागा
3. पीले रंग का रेशमी धागा
4. गुलाबी रंग का रेशमी धागा
5. चारों ओर सिलाई के लिए सिलाई मशीन या सुई और धागा
6. फूलों और पत्तियों से सजाने के लिए कुछ चमकदार मोती या गोल्डन बारीक रेशमी धागा
7. एक छोटा फूल बुकेट
झंडा बनाने की प्रक्रिया:
1. पहले पट्टे की लंबाई और चौड़ाई के अनुसार एक छोटे से पट्टे का कटाव करें। ध्यान दें कि झंडे का अनुपात लंबाई के समान चौड़ाई का होना चाहिए।
2. अब झंडे के बाएं और दाएं किनारों को सिले। इसके लिए, लाल रंग के धागे का उपयोग करें। इससे पट्टे के चारों ओर रेशमी धागे का सीमा बनेगा।
3. अब पीले रंग के धागे का उपयोग करके झंडे के ऊपरी और निचले भाग में सिलाई करें। यह झंडा लाल रंग और पीले रंग के धागों से सजाए जाएगा।
4. अब गुलाबी रंग के धागे का उपयोग करके झंडे की मध्य भाग में विशेष डिज़ाइन बनाएँ। आप यहां पर हनुमान जी का चित्र, उनके नाम की लिखावट या कुछ धार्मिक चिन्ह बना सकते हैं।
5. अब झंडे के ऊपर फूलों और पत्तियों से सजाने के लिए चमकदार मोती या गोल्डन बारीक रेशमी धागा चिपकाएं। इससे झंडे की खूबसूरती बढ़ेगी।
6. अंत में, झंडे के ऊपर एक छोटा फूल बुकेट चिपका दें जो उसे और भी सुंदर बनाएगा।
आप इन स्टेप्स का पालन करके अपने हनुमान जी के झंडे को तैयार कर सकते हैं। यदि आप यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि झंडा सुरक्षित रहे और लंबे समय तक टिका रहे, तो उसे सावधानीपूर्वक स्थानांतरित करेंऔर साफ़ रखें


हनुमान जी के झंडे को लगाने की विधि 

सामग्री:
1. हनुमान जी का झंडा (लाल रंग का या नारंगी रंग का पट्टा)
2. छोटी फूलों और पत्तियों का ताज़ा बुकेट
3. रोली और चावल (अगर आपको यह प्राथमिक धूपदीप विधान करना हो)
विधी:
1. सबसे पहले एक शुभ मुहूर्त चुनें जिसमें आप हनुमान जी के झंडे को लगाना चाहते हैं। यह दिन किसी शुक्रवार, शनिवार, बुधवार या मंगलवार का हो सकता है, क्योंकि ये दिन हनुमान जी के भक्तों के लिए विशेष मान्यता रखते हैं।
2. झंडे को उधारी करके साफ़ करें। यदि आपने सामान्य रंग का पट्टा लिया है, तो उसे धोकर सुखा लें।
3. झंडे के ऊपर फूलों और पत्तियों का ताज़ा बुकेट रखें। इससे झंडे की खूबसूरती बढ़ेगी और वह देवी-देवताओं के सम्मान में सजग दिखेगा।
4. अब झंडे को उच्च स्थान पर लगाने के लिए तैयार करें। आप अपने घर के मंदिर में, या श्रद्धा स्थल में, या किसी प्रायः सबके द्वार में हनुमान जी के झंडे को लगा सकते हैं। ध्यान दें कि झंडे को उच्च स्थान पर लगाएं ताकि उसका सम्मान सही रूप से हो सके।
5. झंडे के नीचे रोली और चावल रखें और उन्हें आर्चना के लिए प्रयोग करें। इससे हनुमान जी की कृपा बनी रहेगी और उनके भक्ति में संतुष्टि होगी।
6. झंडे को लगाने के बाद, हनुमान चालीसा का पाठ करें और हनुमान जी के बजरंग बाण का पाठ करें। आप उन्हें फल, प्रसाद, और दिया भी चढ़ा सकते हैं।
इस विधि के अनुसार, आप हनुमान जी के झंडे को समर्पित रूप से लगा सकते हैं और उन्हें अपने भक्ति और समर्पण का प्रतीक मान सकते हैं। ध्यान दें कि हनुमान जी के भक्ति में सतत समर्पण और श्रद्धा रखना महत्वपूर्ण है।

हनुमान जी के झंडे को लगाने की विधि निम्नलिखित रूप से 

सामग्री:
1. हनुमान जी का झंडा (लाल रंग का या नारंगी रंग का पट्टा)
2. छोटी फूलों और पत्तियों का ताज़ा बुकेट
3. रोली, चावल, कुमकुम और अभिषेक के लिए जल (अगर आप इन्हें उपयोग करना चाहते हैं)
4. छोटा सा मूर्ति या चित्र जिसका आप हनुमान जी के समीप स्थानांतरित कर सकते हैं (वैकल्पिक)
विधी:
1. सबसे पहले एक शुभ मुहूर्त चुनें जिसमें आप हनुमान जी के झंडे को लगाना चाहते हैं। यह दिन किसी शुक्रवार, शनिवार, बुधवार या मंगलवार का हो सकता है, क्योंकि ये दिन हनुमान जी के भक्तों के लिए विशेष मान्यता रखते हैं।
2. झंडे को उधारी करके साफ़ करें। यदि आपने सामान्य रंग का पट्टा लिया है, तो उसे धोकर सुखा लें।
3. झंडे के ऊपर फूलों और पत्तियों का ताज़ा बुकेट रखें। इससे झंडे की खूबसूरती बढ़ेगी और वह देवी-देवताओं के सम्मान में सजग दिखेगा।
4. अब झंडे को उच्च स्थान पर लगाने के लिए तैयार करें। आप अपने घर के मंदिर में, या श्रद्धा स्थल में, या किसी प्रायः सबके द्वार में हनुमान जी के झंडे को लगा सकते हैं। ध्यान दें कि झंडे को उच्च स्थान पर लगाएं ताकि उसका सम्मान सही रूप से हो सके।
5. झंडे को लगाने के बाद, आप उन्हें अभिषेक करने के लिए पानी या गंगाजल से धो सकते हैं। इसके बाद, झंडे के ऊपर रोली, चावल, और कुमकुम छिड़कें।
6. अगर आप इच्छा करते हैं, तो आप झंडे के पास एक छोटा सा मूर्ति या चित्र भी रख सकते हैं, जिससे झंडे के सामीप आप आर्चना और भक्ति कर सकें।
इस विधि के अनुसार, आप हनुमान जी के झंडे को समर्पित रूप से लगा सकते हैं और उन्हें अपने भक्ति और समर्पण का प्रतीक मान सकते हैं। ध्यान दें कि हनुमान जी के भक्ति में सतत समर्पण और श्रद्धा रखना महत्वपूर्ण है।

Comments