जानिए 2024 जनवरी महीना के हिंदू व्रत और त्योहार के बारे में/jaanie 2024 janavaree maheena ke hindoo vrat aur tyohaar ke baare mein

 जानिए 2024 जनवरी महीना के हिंदू व्रत और त्योहार के बारे में Know about Hindu fasts and festivals of January 2024

4 जनवरी 2024 गुरुवार कालाष्टमी 

 जानिए 04 जनवरी 2024 को मासिक कालाष्टमी के बारे में -

कालाष्टमी भगवान शिव को समर्पित है। यह प्रत्येक माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है। 

कालाष्टमी के दिन पूजा करते समय कुछ मंत्रों का जाप किया जाता

मासिक कालाष्टमी क्या  है  मासिक कालाष्टमी महत्व और व्रत अनुष्ठान कालाष्टमी  की कथा -मासिक कालाष्टमी, हिंदू पंचांग के अनुसार हर माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाने वाला एक त्योहार है

कालाष्टमी के बारे में कुछ रोचक तथ्य महत्वपूर्ण धार्मिक त्योहार: कालाष्टमी हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण एक त्योहार है जो भगवान शिव और माँ काली को समर्पित है।

शिव का त्योहार: कालाष्टमी कालाष्टमी पूजा विधि कालाष्टमी व्रत कथा -बहुत पुराने समय की बात है, एक गांव में एक गरीब व्यक्ति था जिसका नाम सुधामा था। वह बहुत ईमानदार और भगवान शिव के भक्त थे

7 जनवरी 2024 रविवार सफला एकादशी

सफला एकादशी का व्रत पूजा विधि 7 जनवरी 2024 को सफला एकादशी का मंत्रोंसंकल्प: व्रत की शुरुआत में संकल्प लें, जिसमें आप यह स्पष्ट करें कि आप सफला एकादशी का व्रत क्यों रख रहे हैं और भगवान विष्णु की पूजा कर रहे हैं।

सफला एकादशी का शुभ मुहूर्त  पूजा से फायदा प्राप्त सफला एकादशी हिन्दू पंचांग में महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। यह एकादशी तिथि के दिन मनाई जाती है और इसे कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष में आयोजित किया जाता है

भगवान विष्णु को अर्पित  सफला एकादशी पूजा महत्व सफला एकादशी कथा सफला एकादशी पूजा में भगवान विष्णु को अर्पित किया जाता है। इस पूजा को विशेष ध्यान और श्रद्धा के साथ की जाती है।

  9 जनवरी 2024 मंगलवार प्रदोष व्रत, मासिक शिवरात्रि

प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण त्योहार प्रदोष व्रत कथा ,मंत्र -कथा कहती है कि एक समय की बात है, एक गांव में एक ब्राह्मण थे जिनका नाम सुदामा था। सुदामा ने अपने परिवार के साथ शिव मंदिर में शिवलिंग की

ॐ नमः शिवाय" (Om Namah Shivaya): यह मंत्र भगवान शिव को समर्पित है 

प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि के लाभ और  रोचक तथ्य  महत्व  प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि के पूजन से अनेक लाभ होते हैं। यह व्रत और पूजन भगवान शिव की प्राप्ति, आशीर्वाद, और अच्छे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण माने जाते हैं। इन पूजाओं के लाभ में से कुछ हैं:

जानिए प्रदोष व्रत मासिक शिवरात्रि के बारे में 9 जनवरी 2024  प्रदोष व्रत कौन कौन रह सकता , प्रदोष व्रत के दिन कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना चाहिए:- प्रदोष व्रत को कोई भी शिव भक्त और भगवान शिव की पूजा करने वाला रख सकता है। यह व्रत सामान्यतः शिव भक्तों द्वारा ध्यान, पूजा, और आराधना के लिए रखा जाता है, और इसमें कोई विशेष शर्त नहीं होती।

11 जनवरी 2024 गुरुवार पौष अमावस्या

पौष अमावस्या पर पूजा का महत्व धार्मिक दृष्टि से बहुत उच्च माना जाता है। इस दिन पितृदोष निवारण और पूर्वजों की आत्मा को शांति प्रदान करने के लिए विशेष पूजा की जाती है।
यहां कुछ काम पौष अमावस्या  के दिन नहीं करते हैं  पौष अमावस्या को कुछ विशेष कार्यों का अत्यंत आवश्यक रूप से अचरण किया जाता है ताकि पितृदोष निवारण और पूर्वजों की शांति को सम्मानित किया जा सके। यहां कुछ काम हैं जो लोग पौष अमावस्या के दिन नहीं करते हैं:

13 जनवरी 2024 शनिवार पंचक शुरू

पंचक पूजा 13 जनवरी 2024 सम्पूर्ण जानकारी शनिवार को 13 जनवरी 2024 को पंचक शुरू होता है। पंचक वेदिक ज्योतिष में एक विशेष समयावधि होती है जिसमें कुछ कार्यों को न करने की सिफारिश की जाती है। यहां कुछ कार्य हैं जो व्यक्ति इस समय में टाल सकते हैं:
पंचक पूजा के कई लाभ पंचक पूजा विधि पंचक पूजा का महत्व पंचक पूजा का महत्व धार्मिक और आध्यात्मिक दृष्टि से बहुत अधिक होता है। इस समय में कुछ विशेष सिफारिशें और मान्यताएं होती हैं जो इसे अनूठा बनाती हैं:

14 जनवरी 2024 रविवार विनायक चतुर्थी

विनायक चतुर्थी का महत्त्व विनायक चतुर्थी हिंदू धर्म में गणेश जी को समर्पित एक महत्वपूर्ण त्योहार है। इसे भारत और भारतीय संस्कृति में बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। 

जानिए 2024 के सभी माह की शुक्ल चतुर्थी तिथि -

शुभ मुहूर्तविनायक चतुर्थी के व्रत का मुहूर्त तथा पूजा का समय तारीख और समय के अनुसार निर्धारित किया जाता है। आपके दिए गए तारीखों के अनुसार, जनवरी 14, 2024, को सुबह 11 बजकर

15 जनवरी 2024 सोमवार मकर संक्रांति, पोंगल, उत्तरायण

2024 जानिए 15 जनवरी सोमवार मकर संक्रांति , पोंगल,  के बारे में   15 जनवरी 2024 को सोमवार को ही मकर संक्रांति मनाई जाएगी। यह एक हिंदू त्योहार है जो उत्तरायण सूर्य की गति के प्रमुख बदलाव का प्रतीक है। इस दिन को पूरे भारत में खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। 
मकर संक्रांति और पोंगल के  पूजा से कई लाभ  मकर संक्रांति और पोंगल के त्योहारों के पूजन से कई लाभ होते हैं, जो मानव जीवन को सकारात्मक तरीके से प्रभावित करते हैं।

17 जनवरी 2024 बुधवार गुरु गोविंद सिंह जयंती

गुरु गोविंद सिंह जयंती निबंध महत्त्वपूर्ण तथ्य - गुरु गोविंद सिंह जी की जयंती भारतीय कैलेंडर में 17 जनवरी को मनाई जाती है। यह एक महत्वपूर्ण पर्व है जिसे उनके जीवन और उनके स्वतंत्रता संग्राम में उनके महान योगदान की याद में मनाया जाता है।
गुरु गोविंद सिंह जी की जयंती का महत्त्व- गुरु गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की, सिख समुदाय को संगठित किया, और स्वतंत्रता के लिए संघर्ष किया।

18 जनवरी 2024 गुरुवार मासिक दुर्गाष्टमी

मासिक दुर्गा अष्टमी  मासिक दुर्गा अष्टमी एक विशेष दिन है जब देवी दुर्गा की पूजा की जाती है, और इसे मासिक (मास) दुर्गा अष्टमी कहा जाता है। इस अष्टमी को मासिक नवरात्रि के दौरान मनाया जाता है
दुर्गा अष्टमी कथा:-कहानी एक सुखद गाँव की है, जहां एक विशेष रूप से भक्तिभावना रखने वाला शक्ति पूजक रहता था जिसका नाम धनुष था। धनुष ने अपने गाँव में दुर्गा पूजा को बड़े श्रद्धा भाव से मनाने का आयोजन किया।

दुर्गा अष्टमीप्रार्थना ध्यान विशेषताएँ आराधना के लाभ दुर्गा अष्टमी प्रार्थना- यह प्रार्थना माता महागौरी की प्रशंसा और आराधना के लिए है। इस प्रार्थना के माध्यम से भक्त माता के शक्तिशाली और शुद्ध स्वरूप की प्रशंसा करता है।
दुर्गा अष्टमीध्यान यह ध्यान दुर्गा अष्टमी के अवसर पर माँ महागौरी की आराधना और समर्पण के लिए है। इस ध्यान में दुर्गा माता के सुंदर और महाशक्तिशाली स्वरूप की महिमा का वर्णन है।

स्तुति माता महागौरी  यह स्तुति माता महागौरी को समर्पित है और उसकी महिमा और शक्ति की प्रशंसा करती है। यह स्तुति माता दुर्गा के आठवें स्वरूप, महागौरी, की महत्वपूर्णता को बयान करती है।




21 जनवरी 2024 रविवार पौष पुत्रदा एकादशी

शुभ मुहूर्त पौष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 20 जनवरी है और संध्याकाल 07:26 प्रारंभ होकर अगले दिन 21 जनवरी को संध्याकाल में

पुत्रदा एकादशी व्रत पूजा विधि .लाभ ,फल , शुभ योग, निर्जला व्रत.पौष पुत्रदा एकादशी व्रत को आचरण करते समय निम्नलिखित पूजा विधि का पालन किया जा सकता है। यह एक साधारित पूजा विधि है

22 जनवरी 2024 सोमवार कूर्म द्वादशी

 कूर्म द्वादशी -कूर्म द्वादशी, हिन्दू पंचांग के अनुसार हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान विष्णु की पूजा के लिए मनाया जाता है। यह त्योहार कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि को आता है, 

23 जनवरी 2024  मंगलवार प्रदोष व्रत

2024 प्रदोष व्रत, प्रदोषम का आचरण पूजा विधि प्रदोष व्रत का आचरण स्थान आधारित होता है और इसे प्रतिमा व्रत भी कहा जाता है, जो कि श्रावण मास के कृष्ण पक्ष के त्रयोदशी तिथि को आचरण किया जाता है। 

क्या है प्रदोष व्रत  और उनसे मिलने वाले लाभ,महत्व,कथा प्रदोष व्रत एक हिन्दू धार्मिक परंपरागत व्रत है जो भगवान शिव को समर्पित है। इस व्रत को प्रदोष के दिन, यानी हिन्दी पंचांग के अनुसार त्रयोदशी तिथि को आचरण किया जाता है। 

25 जनवरी 2024 गुरुवार पौष पूर्णिमा व्रत, गुरु पुष्य योग 

जानिए 25 जनवरी 2024 पौष पूर्णिमा व्रत, गुरु पुष्य योग ,शुभ मुहूर्त   पौष पूर्णिमा व्रत भारतीय हिन्दू पर्व और व्रतों में से एक है, जो पौष मास के पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। इस व्रत में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और भक्तगण इस दिन विशेष रूप से उनकी कृपा को प्राप्त करने के लिए व्रत करते हैं।

26 जनवरी 2024 शुक्रवार  माघ माघ शुरू

माघ महीना  हिन्दी पंचांग में होने वाले एक महीने का नाम है, जो हिन्दू कैलेंडर के अनुसार माघ मास कहलाता है। 

29 जनवरी 2024 सोमवार सकट चौथ, लंबोदर सकंष्टी चतुर्थी

संकष्टी चतुर्थी संकष्टी चतुर्थी हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण व्रत है जो भगवान गणेश को समर्पित है। इस व्रत का आयोजन चतुर्थी तिथि को किया जाता है, जो हर माह की कृष्ण पक्ष चतुर्थी को आती है। इस दिन भगवान गणेश की पूजा विशेष भाव से की जाती है 




चैत्र महीने के व्रत और त्यौहार

 क्लिक करें लिंक पर पड़ने के लिए-

नवरात्र (दुर्गापूजन) चैत्र नवरात्रि

गणगौर या गनगौर (चैत्र शुक्ल तृतीया

विनायक चतुर्थी व्रत विधि व्रत कथा चैत्र मास

चैत्र पंचमी

अशोकाष्टमी

महाअष्टमी (दुर्गाष्टमी)

रामनवमी (चैत्र शुक्ल नवमी)

कामदा एकादशी (चैत्र शुक्ल एकादशी)

चैत्र पूर्णिमा (हनुमान् जयन्ती)

चैत्र पूर्णिमा ( पजूनो-पूनो व्रत )

Comments