गणेश जी के श्लोक,Ganesh Ji Ke Shlok

गणेश जी के श्लोक Ganesh Ji Ke Shlok

 गणेश जी के श्लोक का उपयोग भगवान गणेश की प्रार्थना के लिए किया जाता है, जिन्हें " विघ्नेश्वर " भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है " बाधाओं को दूर करता है "। यह हमारे मार्ग की बाधाओं को दूर करने की प्रार्थना करने वाला श्लोक है। 
गणेश जी के श्लोक,Ganesh Ji Ke Shlok

गणेश जी का श्लोक 
वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ:
निर्विघ्नं कुरु में देव सर्वकार्येषु सर्वदा।
गणेश जी का श्लोक अर्थ -
हे! गज रूपी प्रभु, जिनकी ऊर्जा सौ सूर्यों के समान है, कृपया मेरे कार्यों से सभी विघ्नों (बाधा या रूकावट) को दूर करें।
गणेश जी का श्लोक
शुक्लाम्बर धरम विष्णुम शशि वर्णम चतुर्भुजम
प्रसन्न वदनं ध्यायेत सर्व विघ्न उपशान्तये
गणेश जी का श्लोक अर्थ -
हम भगवान गणेश का ध्यान करते हैं - जो सफेद वस्त्र पहने हुए हैं (पवित्रता का प्रतिनिधित्व करते हैं), जो सर्वव्यापी हैं (हर जगह मौजूद हैं), जिनका रंग राख के समान भूरा है (आध्यात्मिक वैभव से चमक रहा है), जिनकी चार भुजाएं हैं, जो उज्ज्वल हैं चेहरा (आंतरिक शांति और खुशी को दर्शाता है) और जो (हमारे आध्यात्मिक और सांसारिक मार्ग में) सभी बाधाओं को नष्ट कर सकता है।

गणेश जी का श्लोक 
अगजानन पद्मार्कम गजाननम् अहर्निशम्
अनेकादन्तम् भक्तानाम् एकदन्तम् उपस्महे
श्लोक का अर्थ -
हे हाथी के मुख वाले भगवान, जिन्हें देखकर माता पार्वती का चेहरा उसी प्रकार चमक उठता है, जैसे सूर्य को देखकर सुंदर कमल खिल उठता है। मैं दिन-रात आपका ध्यान करता हूं, हे एक दांत वाले भगवान, प्रचुर मात्रा में वरदान देने वाले, हमें आशीर्वाद दें।

गणेश जी का श्लोक
विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लंबोदराय सकलाय जगद्धितायं।
नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते॥
श्लोक का अर्थ -
विघ्नेश्वर, वर–दाता, देवताओं के प्रिय, लंबोदर, कलाओं से परिपूर्ण, जगत का हित करनेवाले, गज के समान मुखवाले और वेद तथा यज्ञ से सुसज्जित पार्वती–पुत्र को नमस्कार है; हे गणनाथ, आपको नमस्कार है ।

गणेश जी का श्लोक
गौरी नंदन गजानना गिरिजा नंदन निरंजना
पार्वती नंदन शुभानना पाहि प्रभो मां पाहि प्रसन्ना
श्लोक का अर्थ -
हे! गौरी पुत्र भगवान गणेश, पर्वतों में बसने वाले भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र आप शुद्धता , संपन्नता और प्रसन्नता के प्रतीक हैं। कृपया हमारी भक्ति से प्रसन्न हों, हमें प्रसन्नता व सौभाग्य प्रदान करें और हमारी रक्षा करें।

गणेश जी के श्लोक पढ़ने के कुछ लाभ

  • गणेश वंदना करने से व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन में सौभाग्य आता है.
  • गणेश जी की पूजा से घर में सुख-समृद्धि और शुभता आती है.
  • गणेश जी के मंत्र का जाप करने से व्यक्ति को प्रखर बुद्धि और तेज याददाश्त का आशीर्वाद मिलता है.
  • गणेश गायत्री मंत्र का जाप करने से करियर में जल्द सफलता मिलती है और हर काम सिद्ध होने लगता है.
  • ॐ गं गणपतये नमः मंत्र का जाप करने से व्यक्ति के जीवन से सभी नकारात्मकताएं दूर होती हैं.
  • ग्लौम गणपति, ऋद्धि पति, सिद्धि पति मंत्र का जाप करने से घर के सारे कलह-क्लेश दूर होते हैं.
  • गणेश जी का ध्यान करने मात्र से ही जीवन की सारी परेशानियां दूर हो जाती हैं

गणेश जी के मंत्र लाभ

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, गणेश जी अपने भक्तों के सभी दुखों को हर लेते हैं. इसलिए, उन्हें विघ्नहर्ता यानी की सभी विघ्नों को हरने वाला कहा जाता है. गणेश जी की पूजा से जुड़े कुछ मंत्र और उनके लाभ:
  1. ॐ गं गणपतये नमः
इस मंत्र का जाप करने से मन को शांति मिलती है और यादाश्त ठीक रखने में मदद मिलती है. साथ ही, काम के प्रति एकाग्रता बनी रहती है और मन के साथ-साथ शरीर भी स्वस्थ बना रहता है. यह मंत्र आपको समृद्ध जीवन प्रदान करता है.

इस मंत्र के कुछ और फ़ायदे

  • इससे मन को शांति मिलती है और यादाश्त ठीक रखने में मदद मिलती है.
  • काम के प्रति एकाग्रता बनी रहती है और मन के साथ शरीर भी स्वस्थ बना रहता है.
  • यह मंत्र आपको समृद्ध जीवन प्रदान करता है.
  • यह मंत्र पति-पत्नी के बीच प्यार और स्नेह बढ़ाने में मदद कर सकता है.
  • यह मंत्र व्यक्ति के कंपन को बढ़ाता है, सकारात्मकता और स्पष्टता का कंपन कवच बनाता है.
  • यह अंतर्ज्ञान और आकर्षण की शक्तियों को मज़बूत करता है

ॐ ऐं ह्वीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे

  • यह मंत्र बुध ग्रह से संबंधित है. कुंडली में बुध ग्रह दोष को दूर करने के लिए इस मंत्र का बुधवार के दिन जाप करना चाहिए.

गणेश जी के कुछ और मंत्र

  • "वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ, निर्विघ्नं कुरु मे देवा सर्वकार्येषु सर्वदा"
  • "ॐ गं गणपतये नमः"
  • "ॐ नमो हेरम्ब मद मोहित मम् संकटान निवारय-निवारय स्वाहा"
  • "ॐ वक्रतुंडा हुं"
  • "ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं गं गणपतये वर वरद सर्वजनं मे वशमानय स्वाहा"
  • "सिद्ध लक्ष्मी मनोरहप्रियाय नमः"
  • "ॐ श्रीं गं सौभाग्य गणपतये। वर्वर्द सर्वजन्म में वषमान्य नम:।।"
  • "ॐ गं गणपतये सर्व कार्य सिद्धि कुरु कुरु स्वाहा"
  • "गजाननाय विद्महे, वक्रतुण्डाय धीमहि, तन्नो दंती प्रचोदयात्" 

Comments